डेंगू का कहरः पांच विभाग मिलकर करेंगे मुकाबला, समीक्षा कर मंत्री तेजस्वी यादव ने दिए कई निर्देश

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में डेंगू के प्रकोप से पांच विभाग मिलकर मुकाबला करेंगे। राज्य सरकार ने डेंगू प्रभावित इलाकों में टेमीफोस लार्वानाशक दवा के छिड़काव की कार्रवाई तेज करने, जल-जमाव को दूर करने को लेकर प्रभावी रणनीति बनाने का निर्देश दिया है। इसके लिए स्वास्थ्य, नगर विकास, कृषि, भवन निर्माण एवं वन एवं पर्यावरण विभागों को मिलकर कार्रवाई करने को कहा गया है।

बिहार में डेंगू के प्रकोप से पांच विभाग मिलकर मुकाबला करेंगे। राज्य सरकार ने डेंगू प्रभावित इलाकों में टेमीफोस लार्वानाशक दवा के छिड़काव की कार्रवाई तेज करने, जल-जमाव को दूर करने को लेकर प्रभावी रणनीति बनाने का निर्देश दिया है। इसके लिए स्वास्थ्य, नगर विकास, कृषि, भवन निर्माण एवं वन एवं पर्यावरण विभागों को मिलकर कार्रवाई करने को कहा गया है।

गुरुवार को विभागीय कार्यालय में आयोजित संयुक्त समीक्षा बैठक में तेजस्वी यादव ने कहा कि दवा के छिड़काव को लेकर मानव संसाधन व मशीन की उपलब्धता बढ़ाएं। डेंगू की रोकथाम के लिए वन एवं पर्यावरण, कृषि, भवन निर्माण विभाग व अन्य विभागों की सहायता ली जा सकती है। सरकारी कार्यालयों के आसपास जलजमाव को भवन निर्माण दूर करे। वहीं, पार्क के गडढ़ों से जलनिकासी में वन विभाग सहयोग करे।

एनएमसीएच में दवा की कमी होगी दूर

राजधानी में बढ़ते डेंगू के प्रकोप को देखते हुए इलाज की व्यवस्था का जायजा लेने गुरुवार रात उप मुख्यमंत्री सह स्वास्थ्य मंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव एनएमसीएच पहुंचे। उपमुख्यमंत्री को अस्पताल पहुंचने की भनक लगते ही डॉक्टरों में हड़कंप मच गया। उपमुख्यमंत्री ने इमरजेंसी समेत डेंगू वार्ड का मुआयना किया और मरीजों से इलाज व्यवस्था तथा सुविधा की जानकारी ली। कुछ मरीजों ने उप मुख्यमंत्री से दवा की कमी की समस्या बताई। कहा कि बाहर से दवा खरीदनी पड़ती है। इस पर उन्होंने कहा कि यहां दवा की कमी दूर की जाएगी। इस बाबत उन्होंने एनएमसीएच प्रबंधन को कई निर्देश दिये।

डॉक्टरों तथा नर्सों की मरीजों के प्रति व्यवहार को लेकर शिकायत मिलने पर कहा कि मरीजों के साथ अच्छा व्यवहार करें ताकि मरीजों को किसी प्रकार की दिक्कत नहीं हो। उन्होंने मेडिसीन विभाग में बाथरूम का पाइप व नल खराब होने और अस्पताल के मेन गेट के पास जलजमाव देखकर नाराजगी जतायी। उन्होंने कहा कि अधिकारियों के साथ विचार-विमर्श कर कमियों को दूर करने का प्रयास होगा। इससे मरीज अच्छा महसूस करेंगे।

निरीक्षण के दौरान अपर मुख्य सचिव प्रत्यय अमृत, स्वास्थ्य विभाग के कौशल किशोर के अलावा कई अधिकारी मौजूद थे। मौके पर एनएमसीएच के प्राचार्य डॉ. एचएल महतो,अधीक्षक डॉ. विनोद कुमार सिंह, डॉ. एसके आस्तिक मौजूद थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.