इंग्लैंड के खिलाफ तीन मैचों की टी 20 सीरीज से पहले टीम इंडिया को बड़ा झटका लगा जब चोट के कारण तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह सीरीज से बाहर हो गए. बुमराह के बाहर होने बाद बीसीसीआई ने बेहतरीन फॉर्म में चल रहे नए स्विंग गेंदबाज दीपक चहर को टीम के साथ जोड़ दिया. दीपक इस वक्त इंग्लैंड में ही हैं और इंडिया ए की ओर से खेल रहे हैं. विकेट के दोनों ओर स्विंग कराने में माहिर चहर बल्लेबाजी भी कर सकते हैं जिसका उदाहरण उन्होंने इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें सीजन में चेन्नई सुपर किंग्स के अंतिम लीग मैच में किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ दिखाया था. भुवनेश्वर कुमार,उमेश यादव और सिद्धार्थ कौल जैसे तेज गेंदबाजों के बीच दीपक अंतरराष्ट्रीय डेब्यू करते हैं या नहीं ये तो आने वाले वक्त ही बताएगा. लेकिन जो वक्त पीछे गुजरा है वो बताता है कि दीपक भारतीय क्रिकेट के नायाब हीरे हैं जिन्हें बेहद करीने से तराशा गया है.

रणजी डेब्यू में मचाया था तहलका
साल 2010, रणजी क्रिकेट में राजस्थान का मुकाबला हैदराबाद से था और टीम में डेब्यू कर रहे थे 18 साल के दीपक चहर. अपनी स्विंग गेंदबाजी का जलवा दिखाते हुए दीपक ने 10 रन देकर हैदराबाद के 8 खिलाड़ियों को पवेलियन भेज नया रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया था. इस घातक गेंदबाजी के आगे हैदराबाद की टीम महज 21 रनों पर ऑल आउट हो गई थी. पूरे सीजन दीपक अपनी गेंदबाजी से छाए रहे और 30 विकेट अपने नाम किए जिसके कारण राजस्थान दूसरी बार रणजी चैंपियन बनने में सफल रहा था. लेकिन चहर की इस सफलता के पीछे भारत के पूर्व कोच का वो बयान था जिसमें कहा गया था कि दीपक किसी भी टीम से खेलने लायक नहीं हैं.

गुरु ग्रेग के बयान ने बदला चहर का क्रिकेट
यह बात उस समय की है जब चैपल राजस्थान क्रिकेट संघ के डायरेक्टर के तौर पर जुड़े थे और चहर राज्य की रणजी टीम में जगह बनाने के उद्देश्य से ट्रायल में आए थे. 16 साल के दीपक को ग्रेग चैपल ने यह कह कर वहां से बाहर कर दिया था कि रणजी क्रिकेट तो छोड़ो ये क्लब क्रिकेट खेलने के भी लायक नहीं है. ग्रेग की इस बात से दीपक काफी परेशान हुए और फिर ठान लिया कि उन्हें भारत के लिए खेलना है. लगभग 10 साल के बाद चहर का सपना पूरा होने जा रहा है. हालाकि चहर के टीम में आने के बाद हर कोई कह सकता है कि भारतीय
टीम में जगह बनाने का एक रास्ता धोनी से होकर गुजरता है.

धोनी की छत्रछाया से निकला एक और क्रिकेटर
महेन्द्र सिंह धोनी और चेन्नई सुपर किंग्स भारतीय क्रिकेट के वो रचनकार हैं जिसमें खेलने वाले कई खिलाड़ी भारतीय टीम को अपनी सेवा दे चुके हैं या दे रहे हैं. मनप्रीत गोनी से लेकर आर अश्विन तक न जाने कितने खिलाड़ी हैं जो धोनी की कप्तान में चेन्नई के लिए चमके तो उन्हें टीम इंडिया से खेलने का मौका मिल गया. अब दीपक चहर भी इस लिस्ट में शामिल हो गए हैं. आईपीएल के 11वें सीजन में चहर ने अपनी स्विंग गेंदबाजी से सभी को प्रभावित किया खासतौर पर पावरप्ले के दौरान इनकी गेंदबाजी बेहतरीन रही.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here