कोरोना के बाद मंडराने लगा ‘मंकीपॉक्स’ का खतरा, जानें इस संक्रामक बीमारी के लक्षण और इलाज

जानकारी

कोरोना वायरस का खतरा अभी पूरी तरह से टला भी नहीं है कि एक और वायरस की दस्तक ने लोगों का दिल दहला कर रख दिया है। खास बात यह है कि यह वायरस भी कोरोना की ही तरह संक्रमित जीवों से मनुष्य में फैलता है। बता दें, इस वायरस का नाम है मंकीपॉक्स। यह बीमारी चूहों या बंदरों जैसे संक्रमित जीवों से मनुष्य में फैलती है। ब्रिटेन के स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया है कि संक्रमित व्यक्ति हाल में नाइजीरिया से आया है। ऐसे में आशंका है कि मरीज को मंकीपॉक्स का संक्रमण उसी देश में हुआ है। बता दें, विश्व स्वास्थ्य संगठन के मुताबिक मंकीपॉक्स का पहला मामला इंसानों में साल 1970 में सामने आया था।

क्या है मंकीपॉक्स वायरस? (What is Monkeypox Virus Infection)-
मंकीपॉक्स एक वायरल इन्फेक्शन है जो ज्यादातर चूहों और बंदरों से इंसानों में फैलता है। संक्रमित जानवरों के संपर्क में आने से मंकीपॉक्स  बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। यह एक दुर्लभ संक्रमण है जो स्मॉल पॉक्स की तरह दिखता है। इस बीमारी में चेचक के लक्षण दिखाई देते हैं। इसके अलावा इस संक्रामक बीमारी में फ्लू जैसे लक्षण भी

मरीज में दिखाई दे सकते हैं। जिन लोगों में यह बीमारी गंभीर होती है उनमें निमोनिया के लक्षण भी देखने को मिलते हैं। इससे संक्रमित होने पर मरीज में दिखाई देने वाले लक्षण हल्के या गंभीर हो सकते हैं। संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने के बाद यह बीमारी आंख, नाक या मुंह के जरिए इंसान के शरीर में फैल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.