कांग्रेस को लोकसभा की 223 सीटों पर ही करनी चाहिए तैयारी, राहुल गांधी की टिप्‍पणी से भड़के राजद की सलाह

जानकारी

क्षेत्रीय दलों के बारे में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की टिप्पणी लंबे समय से सहयोगी दल राजद को पसंद नहीं आई है। राजद के राज्‍यसभा सदस्‍य और प्रवक्ता मनोज झा ने राहुल को भाजपा के खिलाफ क्षेत्रीय दलों के मजबूती से लड़ने का इतिहास देखने का सुझाव दिया है और कहा कि तेजस्वी यादव की सलाह पर अमल करते हुए कांग्रेस को लोकसभा की 543 में से 320 सीटों की ड्राइविंग सीट क्षेत्रीय दलों के हवाले कर देना चाहिए। बाकी सीटों पर वह स्वयं तैयारी करे। इस तरह राजद ने कांग्रेस को लोकसभा के लिए तैयारी केवल 223 सीटों तक सीमित करने की सलाह दे दी है।

राहुल ने कहा था- भाजपा से नहीं लड़ सकते क्षेत्रीय दल 

राहुल ने उदयपुर में कांग्रेस के चिंतन शिविर में कहा था कि क्षेत्रीय दल भाजपा और आरएसएस से नहीं लड़ सकते, क्योंकि उनके पास विचारधारा का अभाव है। राजद नेता ने कहा कि भाजपा के खिलाफ लड़कर कई क्षेत्रीय दलों के बड़ी संख्या में सांसद लोकसभा में हैैं। उन्होंने कांग्रेस के चिंतन शिविर में अपनाए गए घोषणा पत्र की चर्चा करते हुए राहुल गांधी पर निशाना साधा और कहा कि अगर वह आंकड़ों का विश्लेषण करें तो अपने बयान को वापस ले लेंगे।
मनोज झा बोले- वैचारिक लड़ाई में राजद की प्रमुख भूमिका
कांग्रेस के घोषणा पत्र में कहा गया है कि लोकतंत्र की रक्षा के लिए कांग्रेस समान विचारधारा वाले दलों के साथ सहयोग बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है। मनोज झा ने कहा कि चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने तेजस्वी यादव पर इसलिए हमले किए कि भाजपा के खिलाफ वैचारिक लड़ाई में राजद की प्रमुख भूमिका है।
बिहार में पहले ही कांग्रेस को औकात दिखा चुका राजद
राष्‍ट्रीय जनता दल बिहार में विधानसभा और विधान परिषद के चुनाव में कांग्रेस को पहले ही औकात दिखा चुका है। राजद ने विधानसभा का उप चुनाव में कांग्रेस से किनारा कर लिया था। विधान परिषद के चुनाव में भी राजद ने कांग्रेस की एक नहीं सुनी। तब राजद नेता कहते थे कि राज्‍य की राजनीति उनके लिए छोड़कर कांग्रेस को राष्‍ट्रीय राजनीति पर ध्‍यान देना चाहिए। राजद नेताओं ने तब ये भी कहा था कि राष्‍ट्रीय स्‍तर पर कांग्रेस को उनका समर्थन जारी रहेगा। अब राजद के नए बयान से यह सवाल उठ रहा है कि 223 सीट पर चुनाव लड़कर कांग्रेस 300 से अधिक सीटें जीतने वाली भाजपा का मुकाबला कैसे कर पाएगी?

Leave a Reply

Your email address will not be published.