CM नीतीश देंगे बेरोजगारों को नौकरी, बिहार परिवहन विभाग में होगी पुलिसकर्मी की भर्ती

खबरें बिहार की

बिहार का परिवाहन विभाग 600 लोगों को नौकरी देने की तैयारी कर रहा है। जानकारी के मुताबिक परिवहन विभाग में 600 पुलिसकर्मियों की नियुक्ति होगी। नियुक्ति के बाद इन लोगों को परिवहन पुलिसकर्मी कहा जाएगा। इस संबंध में परिवहन विभाग ने प्रस्ताव को तैयार कर लिया है। अब इस प्रस्ताव को वित्त और विधि विभाग को भेजा गया है। जानकारी के मुताबिक भर्ती प्रक्रिया पूरी होने तक इस काम में सैप यानी स्पेशल ऑग्जीलरी पुलिस की सेवा ली जायेगी।

भर्ती प्रक्रिया की जिम्मेदारी गृह और पुलिस मुख्यालय को देने का प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है और भर्ती की जिम्मेवारी पुलिस मुख्यालय केंद्रीय चयन पर्षद (सिपाही भर्ती) को। दरअसल बिहार में वर्तमान व्यवस्था में परिवहन विभाग की जांच के लिये विभाग को पुलिस पर निर्भर रहना होता है। जिलों में डीटीओ और एमवीआई के आग्रह पर होमगार्ड की सेवा मुहैया कराई जाती है और इसके एवज में परिवहन विभाग सेवा शुल्क का भुगतान करता है।

नियमावली में परिवहन सिपाहियों को विभागीय परीक्षा के आधार पर पदोन्नति देने का भी प्रावधान किया जा रहा है। इसके तहत परिवहन सिपाही की पदोन्नति प्रवर्तन निरीक्षक (ईएसआइ) और प्रवर्तन अवर निरीक्षक (ईआइ) के पद तक हो सकती है। नियुक्ति की प्रकिया को लेकर जल्द ही अधिसूचना जारी होने की संभावना है। इसके अलावा पटना व गोरखपुर के बीच अगले माह से सीधी बस सेवा शुरू होगी। इसके साथ ही बिहार राज्य पथ परिवहन निगम के अधीन पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप के तहत आठ मार्गों पर बस चलाने के लिए निजी बस ऑपरेटरों ने निविदा भरी है।

इनमें पटना-गोरखपुर वाया हाजीपुर-सीवान-देवरिया, गया-सारनाथ, डेहरी-वाराणसी, छपरा-गोरखपुर, मुजफ्फरपुर-गोरखपुर, रक्सौल-गोरखपुर वाया मोतिहारी, रक्सौल-गोरखपुर वाया पिपराकोठी, गोपालगंज और आरा से वाराणसी शामिल है। इन मार्गों पर बस चलाने के लिए निविदा खुलने के बाद चयनित बस ऑपरेटरों ने आवेदन जमा कर दिया है। इसकी विस्तृत सूची बिहार राज्य पथ परिवहन निगम ने परिवहन विभाग को भेज दी है। परिचालन शुरू करने से पहले परिवहन विभाग के वरीय अधिकारियों की बैठक निजी ऑपरेटरों के साथ होगी व परिचालन शुरू करने की तारीख पर निर्णय होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.