पटना: मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि बिहार में विकास और रोजगार के लिए नई कार्ययोजना लाएंगे। हमसभी आपस में बात कर आगे की कार्ययोजना तय करेंगे और फिर उस पर काम शुरू करेंगे। अपनी कार्ययोजना का एलान भी करेंगे। मुख्यमंत्री शुक्रवार को विधानसभा में राज्यपाल के अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर हुए वाद-विवाद के बाद सरकार का उत्तर रख रहे थे। इस दौरान विपक्षी सदस्यों ने कई बार टिका-टिप्पणी भी की, पर मुख्यमंत्री ने अपना संबोधन जारी रखा। बाद में विपक्ष वेल में भी आ गया। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रारंभ से ही हमने हर तबके और सभी इलाके विकास के लिए काम किया है। आगे भी सभी काम करते रहेंगे। जब तक हम हैं तब तक किसी पर अन्यान नहीं होने देंगे। अपराध बर्दाश्त नहीं करेंगे। सदन का सत्र खत्म हो गया है अब राज्य में चल रही योजनाओं और विकास के एक-एक कार्य की समीक्षा करेंगे। केंद्र की पूरी मदद मिल रही है। हम बिहार को ऊंचाइयों तक पहुंचाएंगे।

नल-जल में गड़बड़ी है तो बताएं, सख्त कार्रवाई होगी
मुख्यमंत्री ने विधायकों से कहा कि नल-जल समेत सात निश्चय की किसी भी योजना में आप गड़बड़ी या कमी देखते हैं तो सरकार को बताएं। गड़बड़ी करने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी। उन्होंने विपक्ष पर हमला करते हुए कहा कि सात निश्चय वर्ष 2015 में बना तो मेरे साथ कौन लोग थे। इसके बाद एनडीए की सरकार बनी तब भी सात निश्चय के एक भी काम को छोड़ा नहीं हमने। आज घर-घर बिजली पहुंच चुकी है। नल-जल का कनेक्शन 89 प्रतिशत घरों में पहुंच चुका है।

चिकित्सा कर्मियों का टीकाकरण पहले
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना कई देशों में फिर बढ़ रहा है। देश के कई राज्यों में भी यह फैल रहा है। इसके प्रति हमेशा सचेत और सजग रहने की जरूरत है। कोरोना के वैक्सीन पर काम चल रहा है। उम्मीद है जल्द ही यह सफल होगा। बड़े पैमाने पर राज्य के लोगों का भी टीकाकरण करने की विस्तृत  तैयारी चल रही है। कैसे टीका आएगा और कैसे सभी तक पहुंचेगा, इस पर काम हो रहा है। सबसे पहले चिकित्सा कर्मियों का टीकाकरण होगा। प्रधानमंत्री इस विषय पर मुख्यमंत्रियों से बात किये हैं। कुछ दिनों में फाइनल गाइडलाइन केंद्र सरकार जारी करेगी। विपक्षी सदस्यों के वेल में आने पर मुख्यमंत्री ने कहा कि ये सभी कोरोना संक्रमण को लेकर जारी दिशा-निर्देश का उल्लंघन कर रहे हैं।

30 लाख टन धान की खरीद होगी
मुख्यमंत्री ने कहा कि धान खरीद का आदेश दे दिया गया है। इस साल 30 लाख टन धान खरीद की संभावना है। उन्होंने यह भी कहा कि वर्ष 2005 तक धान की खरीद होती भी नहीं थी। हमलोगों ने इसे शुरू कराया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here