CM नीतीश कुमार बोले- मैंने भी इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है, रोड-पुल व भवन बनाने वाले इंजीनियरों को दी नसीहत

जानकारी

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इंजीनियरों से कहा है कि वह सरकारी इमारत, सड़क और पुलों के रखरखाव पर खास ध्यान दें. गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये 16 विभागों की 1209 करोड़ की 244 परियोजनाओं का शिलान्यास व उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि सड़क, पुल, पुलिया व भवन का निर्माण किया जा रहा है. उनके मेंटेनेंस पर भी विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए. इस काम के लिए अभियंताओं और कर्मियों की जरूरत के अनुसार और भर्ती होने से रोजगार में भी वृद्धि होगी.

सीएम नीतीश कुमार ने दिये निर्देश

  • शिलान्यास किये गये भवनों का निर्माण कम-से-कम समय में पूरा करें
  • जल-जीवन-हरियाली अभियान से संबंधित कार्यों पर विशेष ध्यान दें
  • सरकारी भवनों में रेन वाटर हार्वेस्टिंग व सौर ऊर्जा का काम ठीक ढंग से कराएं

जितने भी सरकारी भवन हैं, उन पर रेन वाटर हार्वेस्टिंग का काम होने से वर्षा जल को संरक्षित किया जा सकेगा. इससे भूजल स्तर भी मेंटेन रहेगा. सरकारी भवनों पर सौर प्लेट लगाये जा रहे हैं. इससे सौर ऊर्जा का उपयोग सरकारी भवनों में किया जा सकेगा. नीतीश कुमार ने कहा कि मैंने भी इंजीनियरिंग की पढ़ाई की है और लोगों की सेवा कार्य में लगा हूं.

मुख्यमंत्री ने शिलान्यास किये गये भवनों का निर्माण कम-से-कम समय में पूरा करने के लिए तेजी से काम करने का निर्देश दिया. जल-जीवन-हरियाली अभियान से संबंधित कार्यों पर विशेष ध्यान देने और रेन वाटर हार्वेस्टिंग व सौर ऊर्जा का काम सरकारी भवनों में ठीक ढंग से कराये जाने का भी निर्देश दिया.

मधुबनी में मिथिला चित्रकला संस्थान और ललित संग्रहालय का उदघाटन

मुख्यमंत्री ने मिथिला चित्रकला संस्थान और मिथिला ललित संग्रहालय के भवन का उद्घाटन होने पर खुशी जाहिर की. इस संस्थान द्वारा चित्रकला में सर्टिफिकेट दिया जायेगा और डिग्री कोर्स भी शुरू होगा.

इन्होंने किया संबोधित

कार्यक्रम को उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद और सूचना एवं जनसंपर्क सह जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से संबोधित किया. वहीं, भवन निर्माण मंत्री अशोक चौधरी, मुख्य सचिव आमिर सुबहानी और भवन निर्माण विभाग के सचिव कुमार रवि ने 01 अणे मार्ग स्थित संकल्प से संबोधित किया.

मोतिहारी और बेतिया में बने प्रेक्षागृह

सीएम ने कहा कि 2017 में चंपारण सत्याग्रह के 100 वर्ष पूरा होने पर हमने निर्णय लिया था कि मोतिहारी और बेतिया में दो हजार लोगों की क्षमता के प्रेक्षागृह बनायेंगे. आज इनका उद्घाटन हुआ है. मुजफ्फरपुर में भी प्रेक्षागृह का शिलान्यास किया गया है. वाल्मीकिनगर में इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के लिए काम शुरू किया गया है. वाल्मीकि सभागार का शिलान्यास किया गया है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.