बिहार में गंगा की सफाई के लिए मिले 1 हजार करोड़ रूपए

खबरें बिहार की

16 से 31 मार्च तक राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन के तहत भागलपुर के मंदार नेचर क्लब की ओर से कुप्पाघाट में गंगा स्वच्छता पखवाड़ा में सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया जा रहा है।

मुख्य अतिथि के रूप में आये नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्रालय के संयुक्त सचिव एवं उप महानिदेशक डॉ. सीवी धर्माराव ने बताया कि केंद्र सरकार ने गंगा के संरक्षण को बढ़ाने और प्रोत्साहित करने के लिए इसे राष्ट्रीय संपदा मानते हुए राष्ट्रीय नदी घोषित किया है।

नमामि गंगे के तहत इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फॉर सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के लिए एक हजार करोड़ से ज्यादा राशि बिहार सरकार को दी गई है।

गंगा उत्तराखंड, यूपी, बिहार और बंगाल से होकर गुजरती है। इन चारों राज्यों में गंगा की स्वच्छता के लिए अभियान चलाया जा रहा है। साथ ही इस बार नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा का आयोजन किया जा रहा है।

डाॅ. स्वामी विवेकानंद ने कहा की गंगा में मूर्ति विसर्जन करने की वजह से गंगा का जल अधिक प्रदूषित हो रहा है। भागलपुर डॉल्फिन क्षेत्र है इसके संरक्षण पर विशेष कार्य किया जाएगा। साथ ही उन्होंने ये भी बताया कि देश के 20 जिलों के साथ बिहार के पटना और भागलपुर में भी स्वच्छता पर जागरूकता कार्यक्रम चलाया जा रहा है। लोगों को जागरूक करने के लिए इस मौके पर सांस्कृतिक संध्या आलय की तरफ से निलय उपाध्याय द्वारा लिखा गया एक बूंद जल अविरल नुक्कड़ नाटक का मंचन किया गया जिसका निर्देशन मदन ने किया।

बरारी पुलघाट में रविवार की सुबह सात बजे गंगा स्वच्छता संकल्प सफाई अभियान चलाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.