China में कोरोना ने मचाया हाहाकार, स्वास्थ्य एजेंसी ने कहा- कोविड मामलों की सटीक संख्या को ट्रैक करना असंभव

जानकारी

चीन में दिनों-दिन बिगड़ रही कोरोना संक्रमण की स्थिति डरा रही है। वहां से छनकर आ रही खबरें बता रही हैं कि कोविड से मरने वाले लोगों के अंतिम संस्कार के लिए निर्धारित अंत्येष्टि स्थलों पर भीड़ उमड़ रही है। अंत्येष्टि के लिए शव लेकर आए लोग लाइन में लगकर बारी का इंतजार कर रहे हैं। यह स्थिति राजधानी बीजिंग की है जहां पर चिकित्सा के तमाम विश्व स्तरीय इंतजाम हैं। हाल के दिनों में चीन में कोरोना वायरस के ओमिक्रान वैरिएंट की सक्रियता में तेजी आई है। भारत के विपरीत चीन में यह वैरिएंट तबाही मचा रहा है। फिलहाल दो करोड़ बीस लाख की आबादी वाले बीजिंग में इसका संक्रमण तेज होने की खबर है।

सरकार की जीरो कोविड पालिसी का सड़कों पर विरोध शुरू होने से दबाव में आई सरकार ने कुछ प्रविधानों को वापस ले लिया था। माना जा रहा है कि इसी की वजह से पिछले दो हफ्तों में स्थिति बिगड़ी है। सरकार के सूचनाओं को छिपाने के लाख उपायों के बावजूद अंत्येष्टि स्थलों पर उमड़ रहे लोग स्थिति बिगड़ने की पुष्टि कर रहे हैं। अमेरिका के एक शोध संस्थान के अनुसार चालू सप्ताह में चीन में कोरोना पीड़ितों की संख्या में विस्फोट जैसा हुआ है।

लोगों के शव परंपरागत रूप से दफनाए नहीं जलाए जा रहे

2023 में चीन में दस लाख से ज्यादा लोगों के कोविड से मरने की आशंका है। चीन की स्थिति तेजी से सामान्य हो रही वैश्विक गतिविधियों के लिए खतरा है। 2020 में भी चीन के वुहान शहर से फैले कोरोना के संक्रमण ने पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में ले लिया था। समाचार एजेंसी के रिपोर्टर ने बीजिंग के दौरे में कोविड से मरने वालों के लिए निर्धारित अंत्येष्टि स्थलों के दौरे में शव लेकर आए लोगों की भीड़ देखी, साथ ही तीन शवदाह ग्रहों की चिमनियों से निरंतर निकलता धुंआ देखा। विदित हो कि चीन में कोविड से मरे लोगों के शव परंपरागत रूप से दफनाए नहीं जलाए जा रहे हैं। अंत्येष्टि स्थलों की पार्किंग के कर्मचारियों ने बताया कि कुछ दिन पहले तक अंतिम संस्कार के लिए लाए जाने वाले शवों की संख्या काफी कम थी।

पूरे दिन गिने-चुने शव ही लाए जा रहे थे लेकिन हाल के दिनों में शवों को लाने का सिलसिला टूट ही नहीं रहा। जबकि चीन के स्वास्थ्य विभाग की तीन दिसंबर को जारी विज्ञप्ति के अनुसार कोविड से आखिरी मौत 23 नवंबर को हुई थी। चीन का राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग के अनुसार 2019 से अभी तक कोविड से देश में केवल 5,235 लोग मरे हैं। जबकि चीन के लोकप्रिय समाचार पत्र कैक्सिन ने शुक्रवार को ही अपने दो पत्रकारों और 14 दिसंबर को सिचुआन प्रांत में मेडिकल छात्र की मौत की खबर प्रकाशित की है।

हालिया उछाल ने चीन में पूरी तरह से अराजकता ला दी है। विश्लेषकों के अनुसार, देश संक्रमण की एक लहर के लिए तैयार नहीं है जो आसानी से इसकी स्वास्थ्य प्रणाली और अपंग व्यवसायों और अर्थव्यवस्था को प्रभावित कर सकता है। अराजकता के बीच, चीनी राज्य मीडिया हल्के लक्षणों वाले नागरिकों को घर पर रहने और बीजिंग की आपातकालीन चिकित्सा हॉटलाइन पर कॉल करने से बचने के लिए कह रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.