छठी मइया ने भरी सुनी गोद तो नजमा बन गई छठव्रती, कर रही हैं छठ पूजा

आस्था

पटना: बिहार के गोपालगंज की मुस्लिम महिला नजमा बेगम भी इस साल छठ व्रत कर रहीं है। शादी के 12 साल बाद भी नजमा की गोद सूनी थी। परिवार के लोग और रिश्तेदार उसे ताना देते थे। नजमा ने छठी मईया से बच्चे के लिए मन्नत मांगी थी। मां बनने के बाद नजमा इस साल पूरे विधि विधान से छठ पूजा कर रही है।

नजमा बेगम के घर बज रही छठी मईया के गीत…

– गोपालगंज जिले के माझा प्रखंड के गौसियां मुस्लिम टोला की नजमा बेगम के घर छठ की चहल-पहल है।
– नजमा के घर में न केवल छठ के गीत बज रहे हैं, बल्कि खुद नजमा भी छठ के गीत गुनगुना कर व्रत की तैयारियां कर रही है।
– नजमा के शौहर जलालुद्दीन भी छठ की खरीदारी में व्यस्त हैं। शौहर के संग पर्दानशीं नजमा जब छठ की सामग्री की खरीदारी करने के लिए बाजार पहुंची तो दूसरे व्रती भी देखकर दंग रह गए।
– नजमा ने बताया कि वह पहली बार छठ कर रही है। छठी मईया की कृपा से उनकी गोद भरी है।
 शादी के 12 साल बाद भी नहीं था संतान
– नजमा की शादी को 12 साल हो गए थे, लेकिन उन्हें कोई संतान नहीं थी। नजमा ने अपना और अपने पति का डॉक्टर से इलाज भी कराया, लेकिन कोई लाभ न हुआ।
– संतान होने की उम्मीद से निराश हो चुकी नजमा ने छठी मईया से पुत्र प्राप्ति की मन्नत मांगी थी। छठी मईया ने नजमा के मन की मुराद पूरी की और नजमा ने एक बेटे को जन्म दिया।
– मंगलवार को नहाए-खाय के बाद नजमा पति के साथ छठ की सामग्रियों की खरीदारी में व्यस्त रही। छठ व्रती नजमा ने बताया कि वह दूसरे छठ व्रतियों से व्रत का विधान पूछ कर व्रत कर रही हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.