छठ से पहले थम जाएगा बिहार में डेंगू का कहर? आज से 4 विभागों के 15 हजार कर्मी संभालेंगे मोर्चा

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में डेंगू के मच्छरों के प्रकोप को नियंत्रित करने के लिए चार विभागों के 15 हजार कर्मी दवा छिड़काव का मोर्चा संभालेंगे। ये कर्मी मच्छर व उनके लार्वा को पनपने से रोकने के लिए डेंगूरोधी दवा मालाथियोन का छिड़काव करेंगे।

मुख्य सचिव, बिहार आमिर सुबहानी के निर्देश के बाद विभिन्न विभागों ने समन्वय बनाकर डेंगू से मुकाबला करने की दिशा में पहल शुरू कर दी है। नगर विकास विभाग विभिन्न विभागों की सहायता से डेंगू मच्छर के खात्मे की दिशा में जल्द कार्रवाई शुरू करेगा। सूत्रों ने बताया कि राज्य में एक सप्ताह तक युद्धस्तर पर डेंगूरोधी दवा के छिड़काव का अभियान चलाया जाएगा। इससे डेंगू मच्छर के पनपने पर रोक लगेगी। चार जिलों पटना, गया, वैशाली व नालंदा में विशेष रूप से डेंगू नियंत्रण को लेकर कार्रवाई की जाएगी। डेंगू पीड़ितों की जांच व इलाज को लेकर लगातार निगरानी रखी जा रही है। इसके साथ ही, प्लेटलेटस की आवश्यकता वाले मरीजों के लिए अस्पतालवार प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी के नाम व मोबाइल नंबर सार्वजनिक किए गए हैं। राज्य स्वास्थ्य समिति परिसर में डेंगू नियंत्रण को लेकर 104 कॉल सेंटर लगातार 24 घंटे काम कर रहा है। कोई भी पीड़ित व्यक्ति एम्बुलेंस, जांच, इलाज संबंधी वहां से सहायता प्राप्त कर सकता है।

ये 4 विभाग हैं शामिल

स्वास्थ्य विभाग ने डेंगूरोधी दवा के छिड़काव को लेकर विभिन्न जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में तैनात चार हजार छिड़काव कर्मियों की सेवा नगर विकास विभाग को सौंप दी है। वहीं, कृषि विभाग और वन एवं पर्यावरण तथा नगर विकास विभाग के तहत विभिन्न नगर निगमों में तैनात छिड़काव कर्मी भी इस डेंगू नियंत्रण को लेकर होने वाली कार्रवाई में शामिल किए गए हैं। इन सभी कर्मियों को अभियान में लगा दिया गया है।

छठ में डेंगू के प्रकोप से बचने के लिए करें उपाय

जिला प्रशासन ने लोगों से डेंगू से बचाव के लिए ठोस उपाय करने को कहा है। खासकर शहर में छठ महापर्व को देखते हुए भीड़ होने की संभावना है। राज्य के बाहर से भी लोग आएंगे, ऐसे में सावधानी बरतने की सलाह दी गई है। लोगों से कहा गया है कि छठ के अवसर पर अपने घरों के आसपास सफाई करें। यदि घर पर ही छठ का आयोजन कर रहे हैं तो बहुत दिन तक छत पर पानी नहीं रहने दें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.