छठ के बाद फिर जद्दोजहदः दिल्ली, मुंबई की ट्रेनों में 14 दिसंबर तक बर्थ नहीं, जानें प्रमुख ट्रेनों का रिजर्वेशन स्टेटस

खबरें बिहार की जानकारी

छठ संपन्न होते ही अब परदेस लौटने की जद्दोजहद शुरू हो गई है। दिल्ली व मुंबई जाने वाली प्रमुख नियमित ट्रेनों में 14 दिसंबर तक कंफर्म टिकट बुक हो चुके हैं। अब तत्काल टिकट के लिए यात्रियों को जंक्शन पर जगराता करना पड़ रहा है। सारी रात जंक्शन पर कतार में लगने पर भी सुबह में उन्हें कंफर्म टिकट मिलने की गारंटी नहीं है।

स्पेशल ट्रेनों की भी कंफर्म टिकट बुक हो चुके

वहीं, दिल्ली व मुंबई जाने वाली स्पेशल ट्रेनों की भी कंफर्म टिकट बुक हो चुके हैं। परदेस से लौटे यात्री वापस जाने के लिए अब कंफर्म टिकट के लिए रेलवे जंक्शन व ट्रेवेल्स एजेंसियों के पास चक्कर लगा रहे हैं। मुजफ्फरपुर से आनंद बिहार जाने वाली सप्तक्रांति एक्सप्रेस, नई दिल्ली जाने वाली वैशाली एक्सप्रेस, बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस व मुंबई जाने वाली पवन एक्सप्रेस में यात्रियों को स्लीपर व एसी श्रेणी में कंफर्म टिकट नहीं मिल रहा है। लिहाजा कंफर्म टिकट के लिए लोग दलालों व ट्रेवेल्स एजेंसियों के पास चक्कर लगा रहे हैं। ज्यादातर ट्रेनों के कंफर्म टिकट पर दलाल कब्जा जमा चुके हैं। दरअसल, छठ के बाद डेढ़ माह से अधिक की अवधि तक महानगर जाने वाली प्रमुख नियमित ट्रेनों में कंफर्म टिकट उपलब्ध नहीं है।

यात्री कर रहे हैं बसों का रूख

प्रमुख ट्रेनों में 17 दिसंबर तक सीट बुक होने के बाद यात्री अब दिल्ली आदि शहर जाने के लिए बसों का रूख कर रहे हैं। बसों के स्लीपर में यात्रा के लिए 1500 से दो हजार रुपये प्रति यात्री किराया वसूल किया जा रहा है। वहीं, सीट के लिए एक हजार रुपये से लेकर 15 सौ रुपये लिया जा रहा है। छठ संपन्न होने के बाद बस ऑपरेटर प्रति यात्री पांच सौ रुपये अतिरिक्त किराया वसूल रहे हैं।

सुरक्षा मानकों के विपरीत बसों में अधिक यात्रियों को बैठाया जा रहा है। बैरिया समेत उत्तर बिहार से रोजाना दिल्ली व आसपास के इलाकों के लिए करीब ढाई सौ बसें खुल रही हैं।

टिकट की स्थिति

सप्तक्रांति आनंद विहार स्लीपर 18 दिसंबर को 57 एसी थ्री,  15 दिसंबर को 24

वैशाली नई दिल्ली, स्लीपर- 25 दिसंबर को 55, एसी थ्री- 18 दिसंबर को 72

पवन मुंबई,  स्लीपर -22 दिसंबर को 80, एसी थ्री-  18 दिसंबर को 10

Leave a Reply

Your email address will not be published.