छठ में एक घाट से जा सकेंगे दूसरे घाट, 16 गंगा घाटों को जोड़कर बनाया गया रिवर फ्रंट

खबरें बिहार की

पटना : पटना के 16 गंगा घाटों को जोड़ कर बनाया जा रहा रिवर फ्रंट अब आकार लेने लगा है। इससे छठव्रतियों को एक घाट से दूसरे घाट तक आने-जाने में आसानी होगी। कलेक्ट्रेट से राजा घाट (गायघाट के पास) के बीच अधिक सुविधा मिलेगी। कृष्णा घाट का निर्माण अंतिम दौर में है।

वहीं काली घाट और बंसी घाट व्रतियों के लिए तैयार है। इसे कलेक्ट्रेट से भी जोड़ दिया गया है। कलेक्ट्रेट से महेंद्रू होते हुए लोग कृष्णा घाट तक आसानी से जा सकेंगे। नदी के पास साफ-सफाई का काम भी नगर निगम ने शुरू कर दिया है। महेंद्रू बांकीपुर क्लब के पास से यहां पहुंचा जा सकता है। काली घाट की बगल में होने से यहां भी व्रतियों को बेहतर जगह मिलेगी। घाट की खास बात यह है कि यहां से लोग काली घाट और कलेक्ट्रेट घाट तक आसानी से पहुंच सकते हैं। घाट छोटा है। इस कारण अर्घ्य के लिए व्रतियों को दूसरे घाट का सहारा लेना होगा। पटना कॉलेज होकर यहां जाने की व्यवस्था है।

साथ ही सिविल कोर्ट के पास से भी इस घाट पर पहुंचा जा सकता है। घाट दो से तीन लेयर में बनाया गया है। रिवर फ्रंट से उसे जोड़ दिया गया है। हालांकि इसे गंगा सौदर्यीकरण योजना के तहत बनाया गया था। गंगा का पानी घाट तक अभी साफ है। साइंस कॉलेज की पूर्वी बाउंड्री से होकर सड़क अंदर जाती है।

घाट पर अभी कंक्रीट का काम चल रहा है। ऊपरी प्लेटफार्म तैयार है। लेकिन, पानी के पास व्रतियों के लिए विशेष निर्माण चल रहा है। गंगा के पानी के पास ही इसे बनाया जा रहा है। पर्यटन को ध्यान में रखकर बनाए जा रहे घाट लोगों को आकर्षित करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.