चंद्र ग्रहण के वक्त इन बातों का रखें खास ख्याल, जानें कब से लगने जा रहा है सूतक काल

खबरें बिहार की जानकारी

साल का आखिरी चंद्रग्रहण मंगलवार 8 नवंबर को लगने जा रहा है। ग्रहण लगने के करीब 9 घंटे पहले सूतक काल प्रारम्भ हो जाएगा। चंद्र ग्रहण भारत के साथ ही साथ दुनिया के दूसरे देशों में भी देखा जाएगा। इस दौरान कोई भी शुभ कार्य नहीं करना चाहिए। सूतक काल लगने के बाद से कोई भी धार्मिक कार्य व पूजन नहीं करना चाहिए। सूतक काल लगने से पूर्व ही मंदिर के कपाट कर दिए जाएंगे

देव दीपावली के दिन दीपदान का विशेष महत्व है। इस दिन नदी किनारे दीप दान करने से पहले दीपक की पूजा करनी चाहिए। इस दिन घर के आंगन में भी दीपक जलाकर रखना चाहिए।

इस साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि सोमवार 7 नवंबर से प्रारंभ होकर मंगलवार 8 नवंबर को समाप्त होगी। ऐसे में यदि आप इस दिन घर में सत्यनारायण भगवान की कथा सुनना बेहद शुभ और लाभकारी माना जाता है। यदि आप लवने घर में इस साल सत्यनारायण भगवान की पूजा करना चाहते हैं तो सोमवार 7 नवंबर के दिन पूजा करने के लिए बेहद शुभ है।

पूर्णिमा का व्रत करने वाले व्यक्ति को ग्रहण समाप्त होने के बाद स्नान कर चंद्रमा के दर्शन, पूजा करें। ग्रहण 8 नवंबर शाम 06:19 मिनट पर समाप्त होगा।

शास्त्रों के अनुसार ग्रहण के समय काना बनाना और खाना दोनों ही वर्जित है। लेकिन बुजुर्ग, गर्भवती महिला और बच्चे अपनी जरूरत के हिसाब से खा सकते हैं। चंद्र ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को घर में रहने की सलाह दी जाती है। यदि ग्रहण के वक्त गर्भवती महिला घर से बाहर जाती है तो गर्भ में पल रहे शिशु के ऊपर चंद्र-सूर्य और राहु व केतु ग्रह से संबंधित दोष पड़ने की संभावना बनी रहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.