google job

क्या है सच्चाई चंडीगढ़ के लड़के को google से 12 लाख महीने की job मिलने की ?

राष्ट्रीय खबरें
Google से job मिलने की सच्चाई

चंडीगढ़ के रहने वाले हर्षित को google में 1.44 करोड़ सालाना पैकेज पर नौकरी मिलने की खबरे आ रही थीं, लेकिन गूगल ने इस हर्षित नाम के किसी लड़के को नौकरी देने की बात से इनकार कर दिया है। यह जानकारी चंडीगढ़ एडमिनिस्ट्रेशन के DPR विभाग की ओर से 29 जुलाई को मीडिया में दी गई थी। अब चंडीगढ़ प्रशासन ने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं।

इन दिनों मीडिया में चंडीगढ़ के एक 16 साल के लड़के को गूगल की ओर से 12 लाख प्रति माह की सैलरी पर नौकरी मिलने की खबरें आ रही थीं। लेकिन बाद में जब यह स्टोरी वायरल हुई तो google ने कहा कि हमारे पास इस लड़के को नौकरी देने का कोई रिकॉर्ड मौजूद नहीं है। खास बात यह है कि हर्षित को google में नौकरी मिलने की जानकारी चंडीगढ़ एडमिनिस्ट्रेशन के डीपीआर विभाग की ओर से 29 जुलाई को मीडिया में जानकारी दी गई थी।

इसमें कहा गया था कि गवर्नमेंट मॉडल सीनियर सेकंडरी स्कूल-33 डी के 12वीं आईटी के स्टूडेंट हर्षित को गूगल ने ग्राफिक डिजाइनर के तौर पर सेलेक्ट किया गया है। मीडिया रिलीज में यह भी कहा गया था कि हर्षित को google की ओर से शुरुआत में एक साल के दौरान ग्राफिक डिजाइन की ट्रेनिंग के दौरान हर महीने 4 लाख रुपये मिलेंगे। ट्रेनिंग खत्म होने के बाद उसे 12 लाख प्रति महीने मिलने की बात हुई थी।



google job



Google के पास नहीं है हर्षित को नौकरी देने का कोई रिकॉर्ड
चंडीगढ़ प्रशासन ने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं। जांच की जिम्मेदारी DPI को दी गई है। यह रिपोर्ट बुधवार तक सौंपी जानी है।

DPR की ओर से बताया गया था कि उसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए ऑनलाइन इंटरव्यू देकर सेलेक्ट किया गया था। अब जब google ने हर्षित के नौकरी मिलने की खबर की सत्यता से इनकार कर दिया है तो चंडीगढ़ प्रशासन सकते में आ गया है। पता लगाया जा रहा है कि बिना किसी पड़ताल और क्रॉस चेक के इस तरह की गलत जानकारी कैसे जारी कर दी गई। सवाल यह है कि स्कूल प्रशासन से लेकर डिस्ट्रिक्ट एजुकेशन डिपार्टमेंट ने जानकारी को वेरिफाई क्यों नहीं किया?



अब चंडीगढ़ प्रशासन ने इस मामले में जांच के आदेश दे दिए हैं। जांच की जिम्मेदारी DPI को दी गई है। यह रिपोर्ट बुधवार तक सौंपी जानी है। DPI इस बात की जांच करेगा कि जिस स्कूल में हर्षित पढ़ता था, वहां से यह इन्फॉर्मेशन किस तरह से आई और किस तरह से इसको बिना क्रॉस वेरिफाई किए आगे भेज दिया गया।

इससे पहले मीडिया से बात करते हुए हर्षित ने कहा था कि, ‘मुझे ऐसा लग रहा है कि जैसे मेरा सपना पूरा हो गया है। मेरी मेहनत रंग लाई है।’ मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हर्षित को 7 अगस्त को गूगल में ट्रेनिंग के लिए कैलिफॉर्निया जाना था।



Leave a Reply

Your email address will not be published.