चांद रात के साथ आज परवान चढ़ेंगी ईद की खुशियां, पटना में दो साल बाद ऐसा खुशनुमा माहौल

जानकारी

कोरोना की वजह से दो साल सन्नाटे में बीतने के बाद इस बार ईद की उमंग हर तरफ अधिक नजर आ रही है। ईद का इस्तकबाल पुरजोर तरीके से करने को हर कोई अपनी तैयारी कर चुका है। आज शाम रमजान का 30 रोजा पूरा होते ही ईद के बेहद खूबसूरत चांद का दीदार होगा। चांद नजर आते ही शहर में चांद रात की चकाचौंध छा जाएगी। कई जगहों पर रोशनी और झालरों से सजे बाजार में लोग ईद की खरीदारी को अंतिम रूप देने के लिए उमड़ पड़ेंगे।

 

मंगलवार को राजधानी स्थित ऐतिहासिक गांधी मैदान, सभी ईदगाहों और कई जामा मस्जिदों में बड़ी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग ईद की नमाज अदा करने के लिए जमा होंगे। रमजान में रखे गए रोजे और की गई अल्लाह की इबादत का शुक्रिया अदा करने के लिए लोग ईदगाह में एकत्र होंगे। इस दिन अल्लाह अपने नेक बंदों को खुशियों का तोहफा देगा। ईद की नमाज के लिए ईदगाहों को तैयार किया गया है। प्रशासन की ओर से सुरक्षा के इंतजाम भी किए गए हैं। धार्मिक उलेमा और प्रशासन द्वारा प्रेम और सौहार्दपूर्ण माहौल में ईद मनाने की लगातार अपील की जा रही है।

शहर की मस्जिदों में पिछले दस दिनों से घर परिवार और सभी तरह की जिम्मेदारियों से अलग रह कर एतकाफ कर रहे लोग ईद का चांद नजर आते ही अपने घर को लौट आएंगे। इस्लामिक शिक्षाविद मौलाना अबू नसर फारूक ने बताया कि ईद की नमाज पढ़ने से पहले गरीबों के बीच फितरा की राशि दान करना अनिवार्य होता है ताकि गरीब लोग भी उस पैसे से अपने लिए ईद की तैयारी कर सकें। कोरोना के कारण दो साल से ईद में गले मिलने पर लगी पाबंदी इस बार खत्म होने की लोगों में बेहद खुशी है।

पिछले कई सालों की अपेक्षा इस बार ईद को लेकर लोगों में ज्यादा उमंग और खुशियां देखी जा रही है। बाजारों में जमकर खरीदारी हो रही है। महिलाओं और बच्चों में उमंग देखते बन रहा है। ईद मिलने के लिए घर आने वाले मेहमानों की मेहमान नवाजी के लिए लच्छा, सेवई समेत कई तरह के मीठे और नमकीन पकवान बनाने की तैयारी लगभग पूरी हो चुकी है। बच्चों को बड़ों से ईदी मिलने का बेसब्री से इंतजार है।

राजधानी पटना के सब्जबाग, हथुआ मार्केट, फुलवारीशरीफ, राजा बाजार, हारून नगर, पटना जंक्शन, आलमगंज, सुल्तानगंज, सदर गली समेत अन्य इलाकों की दुकानों में सेवई, लच्छा, कपड़ा, कुर्ता, इत्र, मेवा आदि की जमकर खरीदारी हो रही है। माहे रमजान अलविदा की हर तरफ सदा गूंज रही है। बाहें फैलाए लोग ईद में सभी से गले मिलने के लिए बेताब हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.