केंद्र का बिहार को बड़ा तोहफा: पटना टू दिल्‍ली वाया एक्‍सप्रेस वे!

खबरें बिहार की

पटना: यदि सबकुछ सही रहा तो वह दिन दूर नहीं, जब पटना से लोग सड़क के माध्‍यम से दिल्‍ली जाना पसंद करेंगे। दरअसल, बिहार के मोकामा में केंद्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने पटना से दिल्ली के बीच एक्सप्रेस वे की चर्चा करते हुए गडकरी ने कहा कि लखनऊ से बलिया-गोरखपुर के बीच एक एक्सप्रेस वे बनना है। अगर बिहार की सरकार जमीन उपलब्ध कराती है तो वह इस एक्सप्रेस वे को पटना तक विस्तारित कर सकते हैं। उनके इस प्रस्‍ताव पर सीएम नीतीश कुमार ने कहा कि हम जमीन अधिग्रहण के लिए हर संभव सहायता करेंगे।

मोकामा में सड़क व पुल से जुड़ी चार व नमामि गंगे कार्यक्रम की चार योजनाओं के कार्यारंभ के मौके पर केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने यह एलान किया कि मोकामा से मुंगेर के बीच फोरलेन सड़क बनेगी। पथ निर्माण मंत्री नंदकिशोर यादव ने इस सड़क के लिए गडकरी से अनुरोध किया था। पीएम पैकेज की एक-एक योजनाएं पूरी होंगीगडकरी ने कहा कि 2015 में प्रधानमंत्री ने बिहार के लिए जिस पैकेज की घोषणा की थी उसमें रोड सेक्टर की हिस्सेदारी 55 करोड़ रुपये की है। वह एक-एक कर सभी परियोजनाओं को पूरा करेंगे।

जमीन मिलने पर पटना-दिल्ली एक्सप्रेस वेपटना से दिल्ली के बीच एक्सप्रेस वे की चर्चा करते हुए गडकरी ने कहा कि लखनऊ से बलिया-गोरखपुर के बीच एक एक्सप्रेस वे बनना है। अगर बिहार की सरकार जमीन उपलब्ध कराती है तो वह इस एक्सप्रेस वे को पटना तक विस्तारित कर सकते हैं। ऐसा होने से पटना से वाया लखनऊ होते हुए दिल्ली तक एक्सप्रेस वे उपलब्ध हो जाएगा। पटना-बक्सर फोर लेन की चर्चा करते हुए गडकरी ने कहा बिहटा से शिवाला के बीच चौदह किमी एलिवेटेड सड़क के निर्माण की योजना पर सहमति है। यह बिहटा में बन रहे नए एयरपोर्ट के लिए भी नयी कनेक्टिवटी होगी।नमामि गंगे के तहत पटना में 11 प्रोजेक्टनमामि गंगे से जुड़ी योजनाओं की चर्चा के क्रम में गडकरी ने कहा कि गंगा हमारी श्रद्धा, संस्कृति और अस्मिता की प्रतीक है। प्रधानमंत्री ने संकल्प लिया है कि हम गंगा को निर्मल बनाएंगे। 2020 तक इसके लिए 20 हजार करोड़ रुपये खर्च का प्रावधान है। इसके लिए 90 प्रोजेक्ट लिए गए हैं।

पटना जिले में 11 प्रोजेक्ट हैं। इनमें चार की आधारशिला आज रखी जा रही है। जो सात शेष रह गए हैं वह आने वाले चार महीने के अंदर आरंभ हो जाएंगे।इसके तहत 234 किमी लंबी सीवरेज लाइन बनेगी। टाल क्षेत्र की समस्या के संदर्भ में गडकरी ने कहा कि गंगा की बाढ़ का जो मास्टरप्लान तैयार किया गया है उसमें पहली प्राथमिकता मोकामा का टाल क्षेत्र है।बनेंगे छह टर्मिनलइलाहाबाद से हल्दिया के बीच विकसित होने वाले जलमार्ग की चर्चा करते हुए गडकरी ने कहा कि बिहार में इसके लिए 180 करोड़ की लागत पर छह टर्मिनल बनाए जाएंंगे। टर्मिनल मनिहारी, बख्तियारपुर, बक्सर और कहलगांव में बनेगा। गंगा में मिïट्टी जमा नहीं हो इसके लिए फ्लोटिंग टर्मिनल भी बना रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.