आज ही के दिन 1983 में वर्ल्ड चैंपियन बनी थी टीम इंडिया, सचिन-गांगुली और द्रविड़ ने ऐसे मनाया था जश्न !

Other Sports

25 जून 1983…ये वो तारीख है जब टीम इंडिया ने पहली बार वर्ल्ड कप पर कब्जा किया था. आज ही के दिन टीम इंडिया ने कपिल देव की अगुवाई में वर्ल्ड कप जीता था. फाइनल में टीम इंडिया ने दो बार की वर्ल्ड चैंपियन वेस्टइंडीज को मात दी थी. इस मुकाबले में टीम इंडिया महज 183 रनों पर सिमट गई थी और जवाब में वेस्टइंडीज सिर्फ 140 रनों पर सिमट गई. इस जीत के बाद पूरे देश ने जमकर जश्न मनाया था, जिसमें सचिन, सौरव गांगुली जैसे दिग्गज भी शामिल थे.

सचिन तेंदुलकर- भारत ने जब वर्ल्ड कप जीता, तो मेरी इमारत और पड़ोस में अविश्वसनीय दृश्य था. लोग सड़कों पर नाच रहे थे और पटाखे छोड़ रहे थे. मैं उस वक्त सिर्फ 10 साल का था और मैं क्रिकेट के बारे में ज्यादा नहीं जानता था. लेकिन मुझे याद है कि मैंने सुबह तक वर्ल्ड कप जीत का जश्न मनाया था.

सौरव गांगुली- 1983 वर्ल्ड कप जीत ने ही भारतीय क्रिकेट की तकदीर बदली. इस जीत के बाद देश का हर बच्चा क्रिकेट खेलना चाहता था. मेरे करियर के दौरान अकसर 1983 वर्ल्ड कप जीत की बातें होती रहती थी. मैं, सचिन, राहुल द्रविड़, अनिल कुंबले सबका यही मानना था कि 1983 वर्ल्ड कप जीत ने हमारे करियर पर बहुत असर डाला था.

राहुल द्रविड़- मुझे याद है कि जब 1983 वर्ल्ड कप फाइनल चल रहा था तो मैं अपने चचेरे भाइयों के साथ इंदौर में छुट्टियां मना रहा था. मैं बहुत निराश हुआ जब मुझे पता चला कि सुनील गावस्कर फाइनल में जल्दी आउट हो गए. इसके बाद टीम इंडिया 1983 पर सिमट गई लेकिन विरोधी वेस्टइंडीज के विकेट गिरते रहे. मुझे आज भी मोहिंदर अमरनाथ का माइकल होल्डिंग को आउट करना और कपिल देव को वर्ल्ड कप उठाते देखने का पल याद है. इसी पल ने मुझे क्रिकेटर बनने के लिए प्रेरित किया.

वीवीएस लक्ष्मण- 1983 वर्ल्ड कप में टीम इंडिया फेवरेट नहीं थी लेकिन उनकी जीत ने सभी को हैरान कर दिया. 25 जून को टीम इंडिया का लॉर्ड्स की बालकनी में जश्न मनाना आज भी याद है. उस जीत ने देश में क्रिकेट क्रांति ला दी थी. 1983 में ही हमें लाइव मैच देखने को मिला था और मैं ये कहूंगा कि वर्ल्ड कप जीत के बाद ही मैं क्रिकेट के प्रति पूरी तरह समर्पित हो गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.