अगर हौंसले हैं तो आप कुछ भी कर सकते हैं बस इसी की एक मिसाल हैं शालिनी अग्निहोत्री। सबकी तरह इन्होंने ने भी पहले एक सपना देखा होगा, सपना कुछ बनने का है। आज की कहानी एक ऐसी लड़की है जिसने बचपन में ही सपना देख लिया था कि जब बड़ी होगी तो पुलिस में जाकर देश की सेवा करेगी।

लड़की की मेहनत और लगन से सपना पूरा हो गया। यही लड़की आगे जाकर IPS ऑफिसर बन गई। 2017 में शालिनी को सर्वेश्रेष्ठ आईपीएस ट्रेनी भी चुना गया। सफलता को छूने वाली इस लड़की का नाम हमने तो पहले ही बता दिया। इन्हें सर्वश्रेष्ठ ऑलराउंड ट्रेनी ऑफिसर होने के नाते प्रधानमंत्री के प्रतिष्ठित बेटन और गृह मंत्री की रिवॉल्वर भी दी गई ।

आपको बता दें कि शालिनी के पिता रमेश एचआरटीसी बस में कंडक्टर हैं। उनकी मां हाउस वाइफ है। शालिनी हिमाचल के ऊना के ठठ्ठल गांव की रहने वाली हैं। जानकारी के मुताबिक शालिनी का जन्म 14 जनवरी 1989 में हुआ। बचपन से ही उन्हें उनके माता-पिता का पूरा सपोर्ट मिला।

मीडिया से बातचीत के दौरान उनके माता- पिता ने बताया शालिनी हमेशा से ही मेहनती छात्र में गिनी जाती थी और स्कूल में उनका प्रदर्शन काफी रहता था। जब शालिनी से बात की गई तो उन्होंने बताया कि जब मैंने UPSC की तैयारी करने के बारे में सोचा तो इसका जिक्र किसी से नहीं किया था। यहां तक कि मेरी फैमिली को भी इस बारे में नहीं पता था। क्योंकि मैं जानती थी ये देश की सबसे कठिन परीक्षा में से एक है। और काफी लोग इस सालों की मेहनत के बाद भी क्लियर नहीं कर पाते। खैर शालिनी देश के हर युवा और लड़की के लिए प्ररेणा हैं।

Sources:-Live News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here