बिहार के छात्रों में असीम सम्भावनाएँ हैं और पूरा देश आज हमारी प्रतिभा एवं लगन का लोहा मान चुका है | इतिहास भी इस बात का प्रमाण प्रस्तुत करता है की बिहार की मिट्टी ने देश को कई प्रतिभाशाली व्यक्तित्व दिया है जिन्होंने वैश्विक स्तर पर भारत देश का गौरव बढ़ाया है | हमारा उद्देश्य नयी पीढ़ी के ऐसे छात्रों को प्रोत्साहित करना है ताकि वो एक आदर्श समाज की स्थापना कर आने वाली पीढ़ी का मार्गदर्शन कर सके |

इंस्टीटूशनल आर्गेनाईजेशन बिहार के लिए ले कर आया है बिहार टैलेंट सर्च एग्जामिनेशन ( बिहार प्रतिभा खोज परीक्षा)। बिहार लीडरशिप फेस्टिवल, पटनाइट्स २० अंडर २० व स्कूल ऑफ़ लीडरशिप के बाद IIO की यह नई परियोजना है।

बिहार टैलेंट सर्च एग्जामिनेशन ( बिहार प्रतिभा खोज परीक्षा) कक्षा 3 से लेकर 12 तक के लिए है, परीक्षा में गणित और विज्ञान के प्रश्न पूछे जाएंगे तथा इन्हे हल करने के लिए 1 .5 घंटे का समय दिया जाएगा । परीक्षा की तारीख 21 जनवरी तय किया गया है।

परीक्षा की संयोजिका पल्लवी, सह संयोजक कुलदीप सहाय व समन्वयक रंजन कुमार ने बताया कि ये परीक्षा बाकि प्रतिभा खोज परीक्षा से अलग है क्योंकि इसमें सफल छात्रों को न केवल पुरस्कृत किया जाएगा बल्कि उनकी ट्रेनिंग भी करवाई जाएगी, ये ट्रेनिंग स्कूल ऑफ़ क्रिएटिव लर्निंग एवम तरुमित्र आश्रम में करवाया जाएगा। इस ट्रेनिंग से बच्चों में एक नई प्रतिभा जागृत होगी जो उन्हें विश्व स्तर पर ले जाने में मदद करेगी

इंटरनेशनल इंस्टीटूशनल आर्गेनाईजेशन के सीईओ आशुतोष पृथ्वी कश्यप ने बताया कि संस्था वर्ल्ड क्लास एजुकेशन को बिहार के हर कोने में ले जाने को अग्रसर है तथा इस बार इनका साथ दे रही है एवेरेन ग्लोबल सर्विसेज।

आशुतोष पृथ्वी ने बताया कि बिहार टैलेंट सर्च एग्जामिनेशन ( बिहार प्रतिभा खोज परीक्षा) में पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ संजय पासवान, पूर्व आईएएस अधिकारी श्री विजय प्रकाश, संयुक्त राष्ट्र संघ के अधिकारी श्री कुमार दीपक, जानीमानी लेखिका एवम शिक्षाविद श्रीमती ममता मेहरोत्रा, तरुमित्र के संस्थापक फादर रोबर्ट एथिकल, प्राइवेट स्कूल एंड चिल्ड्रन वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री सईद शामाइल अहमद, श्री बरुन शर्मा,सुश्री देवोप्रिया दत्ता व् श्री प्रणव कुमार जुड़े हैं ।

परीक्षा से जुडी जानकारी www.iio.website पर उपलब्ध है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here