बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने 30 दिसंबर को कोलकाता में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से वंदे भारत एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखाई थी। इसके बाद से लगातार वंदे भारत एक्सप्रेस पर पथराव की घटना सामने आ रही हैं। इससे पहले आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में वंदे भारत पर पथराव किया गया था। जिसके वजह से ट्रेन के शीशे क्षतिग्रस्त हो गए थे। वहीं हावड़ा और न्यू जलपाईगुड़ी के कुमारगंज स्टेशन के पास भी पथराव की घटना सामने आई थी।

खबरें बिहार की जानकारी

भूटान की एक महिला की नई दिल्ली-जलपाईगुड़ी राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन में मौत हो गई। महिला अपनी बेटी और दामाद के साथ भारत तीर्थ यात्रा करने आई थी। यात्रा करते समय महिला की सिवान और छपरा जंक्शन के बीच तबीयत बिगड़ने से मौत हो गई।

मृतका की पहचान भूटान के शवाग जिला के धोनधूप गांव के स्व. तोगई की पत्नी खेमचा लहानो के रूप में हुई है। उनकी उम्र 89 साल बताई जा रही है। महिला के साथ सफर रही उनकी पुत्री सोनम तोगई ने बताया कि वे अपनी मां, जीजा सोनम रिचन और 12 अन्य लोगों के साथ भूटान से भारत के धार्मिक स्थलों का भ्रमण दर्शन करने आई थी। वे लोग पंजाब के अमृतसर में स्वर्ण मंदिर देखने के बाद नई दिल्ली से लौट रहे थे। सभी लोग कूच बिहार के सफर के लिए नई दिल्ली जलपाईगुड़ी राजधानी एक्सप्रेस ट्रेन के कोच संख्या बी-12 में सवार हुए।

मृतक की बेटी ने बताया कि ट्रेन जब सिवान से छपरा की ओर बढ़ने लगी तो मेरी मां का दम फूलने लगा। उन्हें सांस लेने में तकलीफ होने लगी। हमने उनकी तबीयत बिगड़ने की सूचना टिकट चेकर को दी और मेडिकल सहायता उपलब्ध कराने के लिए बोला। टीटी ने छपरा पहुंचने पर डॉक्टर से इलाज कराने की बात कही।

तबीयत खराब होने की सूचना पर छपरा जंक्शन पर महिला को ट्रेन से उतार लिया गया, जहां डॉक्टर ने जांच के बाद महिला को मृत घोषित कर दिया। जीआरपी ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव मृतका के परिजनों को सौंप दिया है। मृतका की पुत्री सोनम तोगई के आवेदन पर यूडी केस दर्ज किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.