BSSC पेपर लीक होने के बाद पहली पाली की परीक्षा रद, नई तारीख की घोषणा जल्द; साल्वर गैंग के दो सदस्य गिरफ्तार

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार कर्मचारी चयन आयोग (BSSC) ने 23 दिसंबर को प्रथम पाली में आयोजित तृतीय स्नातक स्तरीय संयुक्त (प्रारंभिक) प्रतियोगी परीक्षा रद कर दी है। रद परीक्षा को 45 दिनों के भीतर फिर से ली जाएगी। इस बाबात आयोग सचिव सुनील कुमार ने अधिसूचना जारी कर दी है। बताया जाता है कि 23 दिसंबर को प्रथम पाली में हुई परीक्षा का प्रश्नपत्र इंटरनेट मीडिया पर सुबह 10 बजकर 53 मिनट पर प्रसारित होने लगा था। इस मामले में आयोग ने आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) को जांच का जिम्मा सौंपा था। ईओयू की जांच में मिले प्रमाण के आधार पर आयोग ने यह कार्रवाई की है।

पटना में साल्वर गैंग ने हल किए प्रश्न पत्र

बताया जा रहा है कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग (बीएसएससी) की प्रारंभिक परीक्षा का प्रश्नपत्र साल्वर गैंग ने हल कर वापस परीक्षार्थी अजय को भेजा था। आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की जांच में इसके संकेत मिले हैं।  ईओयू सूत्रों के अनुसार, मोतिहारी के शांति निकेतन जुबली स्कूल में परीक्षा दे रहे सुपौल के परीक्षार्थी अजय ने परीक्षा शुरू होने के एक घंटे के अंदर इसकी तस्वीर खींचकर वाट्सएप पर अपने भाई विजय को भेजी थी। विजय ने इसे पटना में बैठे साल्वर गैंग के सदस्यों को भेजा। तकनीकी जांच और पूछताछ में यह जानकारी मिली है कि साल्वर गैंग ने प्रश्नपत्र को हल करने के बाद वापस इसका जवाब अजय तक पहुंचाया था।

राजधानी से दो युवक गिरफ्तार

पूरे मामले की जांच कर रही आर्थिक अपराध इकाई ने दोनों भाइयों के मोबाइल की जांच के बाद पटना के मुसल्लहपुर इलाके से साल्वर गैंग से जुड़े दो युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। इनकी पहचान कैलाश साह और राजेश रोशन के रूप में की गई है। इसमें राजेश रोशन खुद भी परीक्षार्थी था। उसकी परीक्षा प्रश्नपत्र प्रसारित होने के अगले दिन थी। सीसीटीवी फुटेज और तकनीकी जांच में यह बात भी स्पष्ट हो गई है कि प्रश्नपत्र की तस्वीर अजय ने क्लासरूम के अंदर ही खींची थी। दोनों से पूछताछ में कई अहम जानकारियां मिली हैं।

तीन लाख अभ्यर्थी पहली पाली की परीक्षा में हुए थे शामिल

बीएसएससी की तृतीय स्नातक लेवल परीक्षा को लेकर लगभग नौ लाख 15 हजार अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। इसमें लगभग तीन लाख अभ्यर्थियों की परीक्षा पहली पाली में आयोजित हुई थी। अब इनकी दोबारा परीक्षा आयोजित होगी। इधर, छात्र नेता दीलिप कुमार व प्रतियोगी परीक्षा विशेषज्ञ गुरु रहमान ने सभी पाली की परीक्षा को रद करने की मांग की है। बता दें कि प्रथम इंटर स्तरीय प्रारंभिक परीक्षा का प्रश्न पत्र भी 2016 में लीक हो गया था। इसके बाद परीक्षा रद किया गया था। मामले में तत्कालिन अध्यक्ष व सचिव को न्यायिक हिरासत में भेजा गया था।

2187 पदों के लिए नौ लाख से अधिक अभ्यर्थी हो रहे शामिल

तृतीय स्नातक स्तरीय परीक्षा के लिए नौ लाख से अधिक अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है। आयोग की ओर से 1360 सचिवालय सहायक, अंकेक्षक, 256 अंकेक्षक, निबंधक सहयोग समिति, 460 योजना सहायक, 125 मलेरिया निरीक्षक, 370 अंकेक्षक, अंकेक्षण निदेशालय एवं दो डाटा इंट्री सहित 2187 पदों पर नियुक्ति के लिए आनलाइन आवेदन लिए गए थे। पहली पाली की परीक्षा सुबह 10 बजे से सवा 12 बजे, जबकि दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर दो बजे से सवा चार बजे तक आयोजित हुई।

2017 में लीक हुआ था प्रथम इंटर स्तरीय परीक्षा के प्रश्न

बीएसएससी प्रश्न पत्र लीक को लेकर पहले से दागदार रही है। इससे पहले वर्ष 2014 में प्रथम इंटर स्तरीय के लिए 13,120 पदों के लिए विज्ञापन जारी हुई थी। इसके लिए 29 जनवरी व पांच फरवरी 2017 को पहली बार प्रारंभिक परीक्षा आयोजित हुई थी। इसमें भी पेपर लीक होने के कारण परीक्षा को रद किया गया था। मामले में सरकार के निर्देश पर गठित एसआइटी ने तत्कालीन अध्यक्ष व सचिव को गिरफ्तार किया था। इसके बाद वर्ष 2018 में परीक्षा दोबारा आयोजित हुई थी। इस परीक्षा को फाइनल रूप 2022 में किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.