पर्यटन को बढ़ावा देने का एक अनोखा तरीका झारखंड सरकार ने खोज निकाला है। अब सिर्फ धरोहरों की ही नहीं भगवान की भी ब्रांडिंग की जाएगी। देवघर के बाबा बैद्यनाथ धाम के चढ़ाए जाने वाले महाप्रसाद से पूरे झारखंड की ब्रांडिंग की जाएगी। देवघर के जिलाधिकारी राहुल कुमार सिन्हा ने इस संबंध में जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि बाबा के महाप्रसाद की खूबसूरत पैकेजिंग की जाएगी।

दिल्ली स्थित देश के सभी राज्यों के भवनों में इसे भेजा जाएगा। इन भवनों में आने वाले लोग इस महाप्रसासद को ग्रहण करेंगे। इस प्रसाद के ग्रहण करने पर उन्हें बाबा बैद्यनाथ के बारे में पूरा जानकारी दी जाएगी। बाबा बैद्यनाथ धाम को चढ़ाए जाने वाला यह महाप्रसाद काफी प्रसिध्द है। इस महाप्रसाद को ग्रहण करने के लिए लोग दूर-दूर से देवघर आते हैं।

महाप्रसाद में पेड़ा, इलायची दाना, कच्चा सूत (बद्धी), सिंदूर सहित कई सारी सामग्री रहती है। जिसकी मान्यता बाबा के प्रसाद के रूप में है। सावन का महीना 17 जुलाई से शुरू हो रहा है। 16 जुलाई से देवघर में पूजा बंद कर दी जाएगी। 17 जुलाई से कांवड़िये शिवलिंगों पर जलाभिषेक करेंगे। लगे हुए अरघे की मदद से जलाभिषेक किया जा सकेगा। जो सीधे मंदिर तक पहुंचेगा। इस बार तीन अरघा लगाए जा रहे हैं।

इससे पहले मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कांवड़ियों के लिए की जाने वाली सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लिया। कुंभ मेला की तर्ज पर स्वच्छता और विनम्रता बनाए रखने का अनुरोध किया। मुख्यमंत्री मंगलवार को बाबा दरबार पहुंचे और उन्होंने पूजा-अर्चना की। उन्होंने कहा कि हम सौभाग्यशाली हैं कि हमारे पास बाबाधाम देवघर और बासुकीनाथ धाम जैसे विश्वप्रसिद्ध तीर्थ स्थल हैं। हम इसे सांस्कृतिक टूरिज्म हब बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं।

Sources:-Live News

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here