बॉडी में ये 5 कमी होने पर होने लगती है मीठा खाने की क्रेविंग, समय रहते हो जाएं सावधान

जानकारी

अगर आप मीठा खाने के शौकीन हैं और ब्रेकफास्ट से लेकर डिनर तक, हर मील लेने के बाद मीठा जरूर खाते हैं तो ये आपकी क्रेविंग और टेस्ट से ज्यादा बॉडी में होने वाली कमी की तरफ इशारा करती है। जी हां, मीठा खाने की आदत को शुगर क्रेविंग (Sugar Craving) कहते हैं जो बिना मौका देखे कभी भी इंसान पर हावी हो जाती है। जरूरत से ज्‍यादा मीठा खाने पर मोटापा, डायबिटीज, ब्‍लड प्रेशर और‍ डिप्रेशन जैसी परेशानियां शुरू हो जाती हैं। ऐसे में ये समझना जरूरी हो जाता है कि आखिर मीठा खाने की क्रेविंग शरीर में होने वाली किस कमी की तरफ इशारा कर रही है। आइए जानते हैं-

ग्लूकोज का स्तर बिगड़ने पर-
कई लोग मोटापा कम करने के चक्‍कर में खुद को भूखा रखकर कड़ी डायटिंग करते हैं। जिस वजह से उनके शरीर को पूरा पोषक तत्‍व नहीं मिल पाता। शरीर में ग्लूकोज का स्तर बिगड़ने पर आपको चॉकलेट या मिठाई खाने की क्रेविंग होनी शुरू हो जाती है।

स्‍ट्रेस हार्मोन-
शरीर जब स्‍ट्रेस में होता है तब कोर्टिसोल और एड्रेनालिन हार्मोन ज्‍यादा बनने लगते हैं। ये दोनों हमारी बॉडी में असंतुलन पैदा करते हैं जिससे ब्‍लड प्रेशर और इंसुलिन का स्तर बढ़ाता है। यही नहीं इससे हमें मीठा खाने की भी क्रेविंग होने लगती है।

लो ब्‍लड शुगर-
हमारा शरीर जब भूखा होता है तब उसे अधिक ईंधन या फ्यूल की आवश्‍यकता पड़ती है। जब आप कार्बोहाइड्रेट युक्त भोजन खाते हैं, तो पाचन तंत्र उसे शुगर में तोड़ देता है। जो उसे रक्‍त के जरिए कोशिकाओं में ले जाकर एनर्जी में बदलता है। लेकिन लंबे समय तक भूखे रहने से हमारी कोशिकाओं को फ्यूल यानी ईंधन की जरूरत पड़ती है। ऐसे में हमें अधिक कार्बोहाइड्रेट लेने की आवश्यकता पड़ती है जिस कारण हमें शुगर क्रेविंग होने लगती है।

प्रोटीन की जरूरत-


अगर शरीर में शुगर क्रेविंग हो रही है तो एक तरह से आपका शरीर आपको ये बता रहा है कि उसे प्रोटीन की जरूरत है। इसके लिए ब्रेकफास्ट, लंच, डिनर आदि में नेचुरल प्रोटीन सोर्स से भरपूर डाइट लें। प्रोटीन से लेप्टिन (Leptin) हार्मोन का प्रोडक्शन होता है जिससे बार-बार भूख लगना कम होता है और आपकी मीठा खाने की क्रेविंग्स बहुत ही कम हो जाती हैं।

पानी की कमी-
शरीर में पानी की कमी है तो भी आपको मीठा खाने की इच्छा होती रहती है.

नींद की कमी-
जो लोग रातभर जागते हैं या जिनकी नींद पूरी नहीं होती उनके शरीर में जब ऊर्जा की कमी होती है तब उन्‍हें जंक फूड या मीठी चीजें खाने का मन करता है। खराब नींद हमारे हार्मोन्‍स को प्रभावित करती है। जिसकी वजह से हमें बार-बार भूख लगती है और शुगर क्रेविंग होती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.