बिहार के सबसे बड़े अस्पताल PMCH में खून और पेशाब की जांच बंद, रिपोर्ट से हुआ खुलासा

खबरें बिहार की

पटना: बिहार के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच में गंभीर बीमारियों के साथ-साथ खून और पेशाब तक की जांच बंद हो गयी है। महत्वपूर्ण जांच इसीलिए बंद हुई है कि यहां उपकरणों की कमी है। फिलहाल कोरोना वायरस जांच का हवाला देते हुए इसे बंद कर दिया गया है, जिससे हर दिन मरीजों की फजीहत हो रही है। मरीज प्राइवेट जांच घरों में जाने को मजबूर हो रहे हैं। यह खुलासा इंटीग्रेटेड डिजीज सर्विलांस प्रोग्राम यानी आईडीएसपी की रिपोर्ट से हुआ है। 

आईडीएसपी की रिपोर्ट में कहा गया है कि पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी में अधिकांश कल्चर जांच बंद पड़े हैं। जो महत्वपूर्ण जांच बंद बतायी गयी है, उसमें टाइफाइड, ब्रेन से संबंधित होने वाली बीमारी मेनिनजाइटिस, गले की बीमारी के लिए डिप्थीरिया जांच, यूरिन कल्चर, कुष्ठ रोगियों के लिए लेप्रोसी की जांच, मलेरिया, पटना शहर के अलग-अलग हिस्सों के पानी की जांच, चिकनगुनिया, डेंगू, आईजीएम, चिकन पॉक्स, घाव के मवाद की पस कल्चर जांच, ब्रेन का फ्लूड, ब्लड कल्चर,  तथा फ्लूड जांच बंद पड़ी हुई है। इसमें कई ऐसी जांच हैं जो पिछले अप्रैल और मई से ही बंद है। 

इस प्रकार माइक्रोबायोलॉजी की लैब में भी 15 प्रकार की जांच बंद है। यह ऐसी जांच है जिसे पीएमसीएच की ओपीडी में या यहां भर्ती मरीज को डॉक्टर रूटीन जांच कराते हैं। ऐसे में मरीज या उनके परिजनों को बाहर की पैथोलॉजी में जांच कराने की मजबूरी हो गई है। इसे लेकर पीएमसीएच में दलाल भी सक्रिय हो गए हैं। हालांकि, डॉक्टरों का कहना है कि पैथोलॉजी लैब में जांच हो रही है, लेकिन मरीजों की संख्या इतनी अधिक होती है कि प्रतिदिन काफी संख्या में लोग लौटाए जा रहे हैं। कोई न कोई मरीज हर दिन दलालों के चक्कर में पड़ जाता है। 

दिलचस्प बात यह है कि आईडीएसपी द्वारा हर महीने पीएमसीएच में 15 प्रकार की महत्वपूर्ण जांच बंद होने से संबंधित रिपोर्ट भेजी जा रही है। स्वास्थ्य विभाग के वरीय अधिकारी भी इसे नजरअंदाज कर रहे हैं। 

इसी लैब में कई बीमारियों की हो रही है जांच
माइक्रोबायोलॉजी के वायरोलॉजी लैब में कई बीमारियों की जांच हो रही है। यदि कोरोना के लिए ही 15 प्रकार के महत्वपूर्ण जांच बंद कर दी गई है तो फिर इसी लैब में कोरोना वायरस के साथ-साथ डेंगू का एनएस 1, एचआईवी, जेई, हेपिटाइटिस की जांच कैसे हो रही है।

कोरोना वायरस का प्रकोप होने के बाद पीएमसीएच में इसकी जांच की व्यवस्था की गई है। बीमारी के प्रकोप को देखते हुए माइक्रोबायोलॉजी लैब में अन्य प्रकार की जांच बंद कर दी गई थी लेकिन जैसे ही बीमारी का प्रकोप कम होगा, उसे शुरू कर दिया जाएगा। 
– प्रो. विद्यापति चौधरी, प्राचार्य, पटना मेडिकल कॉलेज

Source: Hindustan

Leave a Reply

Your email address will not be published.