बिहार में नए साल से पहले कड़ाके की ठंड देगी दस्तक, पछुआ की गति कम होने से बढ़ी धुंध; 600 मीटर पहुंची दृश्यता

खबरें बिहार की जानकारी

साल 2022 खत्म होने को है और नए साल के आगमन में अब बस कुछ ही दिन शेष है। बिहार में पड़ने वाली प्रचंड ठंड से लोगों को राहत है। हालांकि, साल 2022 जाते जाते कढ़ाके की ठंड देकर जाने वाला है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार, प्रदेश में दो दिनों के बाद तापमान में दो से तीन डिग्री सेल्सियस की कमी होने के साथ ठंड में वृद्धि होगी। पछुआ की गति चार से छह किमी प्रतिघंटा होने से मौसम अगले पांच दिनों तक शुष्क रहेगा। सुबह के समय खासतौर पर तराई वाले क्षेत्रों में घना कोहरा छाए रहने की संभावना है। उत्तर बिहार में अगले कुछ दिनों तक आसमान साफ और मौसम शुष्क रहेगा।

पूसा स्थित डा.राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय के मौसम विभाग द्वारा 25 दिसंबर तक के लिए जारी पूर्वानुमान में कहा गया है कि उत्तर बिहार के जिलों में आसमान साफ रहेगा। रात व सुबह में हल्का से मध्यम कुहासा छा सकता है। पूर्वानुमानित अवधि में पछुआ हवा चलने का अनुमान है। औसतन चार से आठ किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा चल सकती है। सापेक्ष आर्द्रता सुबह में 85 से 90 व दोपहर में 55 से 60 प्रतिशत रहने का अनुमान है।

पछुआ की गति कम होने से कोहरे बढ़ा

राजधानी पटना समेत प्रदेश के वातावरण में नमी अधिक होने के साथ पछुआ की गति कम होने से कोहरे की सघनता में वृद्धि हुई है। राजधानी समेत प्रदेश के उत्तरी भागों के पूर्णिया समेत अन्य जगहों पर सुबह के समय कोहरा छाए रहने से दृश्यता की कमी होने से यातायात भी प्रभावित रही। सुबह के समय छह सौ मीटर की दृश्यता दर्ज की गई।

गया में सबसे अधिक ठंड

राजधानी समेत प्रदेश के 20 जिलों के न्यूनतम तापमान में आंशिक वृद्धि दर्ज की गई। 7.6 डिग्री सेल्सियस के साथ प्रदेश का गया जिला सबसे ठंडा शहर रहा। राजधानी का न्यूनतम तापमान 11.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं, सबौर में 9.8, बांका में 9.2, जमुई में 12.2, कटिहार में 14.7, पूर्णिया में 13.5, सीतामढ़ी में 13.6 खगड़िया में 13.3, अररिया में 12.7, फारबिसगंज में 15.0 (डिग्री सेल्सियस में) दर्ज किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.