टोक्यो पैरालंपिक में बिहार के शरद कुमार को मिला ब्रांज, पटना स्थित आवास पर जश्न का माहौल

खबरें बिहार की

Patna: टोक्यो पैरालिंपिक में बिहार के शरद कुमार छा गए हैं. शरद कुमार को ऊंची कूद टी 42 स्पर्धा में कांस्य पदक मिला है. शरद यह सफलता हासिल करने वाले बिहार के पहले पैरा एथलीट हैं. इस सफलता पर पूरे देश के साथ ही पूरा बिहार खुशी से झूम रहा है. शरद के पटना स्थित आवास पर जश्न का माहौल है. हालांकि, शरद कुमार मुजफ्फरपुर के रहने वाले हैं. उनकी इस सफलता पर पीएम नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार समेत अन्य ने बधाई व शुभकामनाएं दी हैं.

शरद कुमार के एक पैर में बचपन में ही पोलियो हो गया था. इसकी वजह से वह जन्म से ही काफी कमजोर है. इसके बाद भी वह अपनी मंजिल की ओर लगातार आगे बढ़ता रहा. अपनी कमजोरी को खेल में बाधा नहीं बनने दिया. उनके हौसले बुलंद हैं. वह दिल्ली में रहकर जेएनयू से पढ़ाई कर रहे हैं. इन दिनों वह छतरपुर में रह रहे हैं. उन्होंने अपने बुलंद हौसले से अपनी सफलता की कहानी लिखी और बिहार के साथ ही पूरे देश का नाम रोशन किया.

शरद कुमार ने इस जीत की सफलता का श्रेय अपने पूरे परिवार को दिया है. पटना स्थित आवास पर शरद के पिता सुरेंद्र कुमार, मां कुमकुम कुमारी, मामा शत्रुघ्न राय, भाई सलज कुमार समेत परिवार के अन्य लोग काफी खुश हैं. पिता सुरेंद्र कुमार ने मीडिया को बताया कि शरद को पैरों पर खड़ा करने में जो मेहनत हमलोगों ने की है, उसका इनाम आज मिल गया. शरद ने बताया कि खासकर उनकी मां ने काफी मेहनत की थी. पदक मिलने के पहले भी मां ने फोन पर हिम्मत बढ़ाई थी.

उनकी अब तक की उपलब्धि

  • टोक्यो पैरालिंपिक 2020 में कांस्य पदक
  • 2019 दुबई में वर्ल्ड चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक
  • 2018 एशियन जर्काता इनडोनेशिया में स्वर्ण पदक
  • 2017 पैरा विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक
  • 2016 रियो पैरालिंपिक में शामिल, छठा स्थान
  • 2014 दक्षिण कोरिया पैरा एशियाड में स्वर्ण पदक

Leave a Reply

Your email address will not be published.