बिहार के लाल ने किया कमाल, फिलिपिन्स में नौ सौ घंटे तक उड़ाई जहाज, अपने मेहनत के बदौलत….

खबरें बिहार की

पटना : चंपारण की धरती ने हमेशा इतिहास रचने का काम किया है. हमेशा से यहां के युवकों ने विभिन्न क्षेत्रों में अपनी अलग पहचान बनाते हुए अपने हुनर का लोहा मनवाया है. पूर्वी चंपारण जिले के केसरिया के एक होनहार युवक चंदन कुमार ने अपनी कडी़ मेहनत के बदौलत कॉमर्शियल पायलट बन कर केसरिया समेत चंपारण का नाम रौशन किया है.

साधारण परिवार में जन्मे चंदन के पिता रामभरोस प्रसाद साह केसरिया बाजार में छोटे पैमाने पर कबाड़ की खरीद-बिक्री कर अपने परिवार का गुजारा करते हैं. प्राथमिक से लेकर इंटर तक की पढा़ई केसरिया से पूरा करने वाले इस युवक ने कॉमर्शियल पायलट परीक्षा की तैयारी नई दिल्ली में रहकर की. तैयारी करने के बाद वह फिलिपिन्स गया जहां उसने कॉमर्शियल पायलट की ट्रेनिंग ली. ट्रेनिंग के दौरान उसने ऐसी दक्षता हासिल की कि फिलिपिन्स की सरकार ने उसे पायलट इंस्ट्रक्टर बना दिया.

अपने ट्रेनिंग के दौरान चंदन ने कुल नौ सौ घंटे उडा़न भरने का रिकार्ड कायम करते हुए विदेश में भारतीय प्रतिभा का परचम लहराया है. भारत सरकार के DGCA विभाग ने चंदन को कॉमर्शियल पायलट का लाइसेंस जारी कर दिया है. अब इंडियन एयर लाइन्स सहित अन्य भारतीय विमान क़पनियों के जहाज के साथ उडा़न भरने की तैयारी में चंदन जुट गया है. अपनी इस सफलता का श्रेय उसने अपने माता-पिता को दिया है. अपनी सफलता से उत्साहित चंदन कुमार ने डेली बिहार न्यूज से बातचीत करते हुए कहा कि दृढ़ संकल्प के साथ अगर धैर्य रख कर कडी़ मेहनत की जाए तो सफलता निश्चित मिलेगी. अपने एकलौते पुत्र को इतनी बडी़ सफलता मिलने की खुशी चंदन के पिता रामभरोस प्रसाद साह के चेहरे पर झलक रही थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published.