वाराणसी हादसे में बिहार के पिता-पुत्र की गई जान, कार से बेटे को छोड़ने जा रहे थे कोटा

राष्ट्रीय खबरें

पटना: यूपी के वाराणसी हादसे में बिहार के सारण निवासी पिता-पुत्र की भी मौत हो गई है। मौत की सूचना मिलते ही रसूलपुर के टेसुआर गांव में मातमी सन्नाटा छा गया है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक एयर फोर्स रिटायर होने के बाद पशुपति सिंह के पुत्र राम बहादुर सिंह वाराणसी में ही बैंक में क्लर्क के पद पर कार्यरत थे और वह सपरिवार बनारस में ही रहते थे।

टेसुआर स्थित घर में सिर्फ बूढ़ी मां रहती है और मौत की जानकारी मिलते ही उनके परिजनों चचेरे भाई राजीव कुमार सिंह बनारस के लिए रवाना हो गए। गांव के लोगों के मुताबिक राम बहादुर सिंह काफी मिलनसार व्यक्ति थे। गांव के मुन्ना साई ने बताया कि जब भी वह गांव आते थे तो युवाओं को काफी प्रोत्साहित करते थे।

बताया जा रहा है कि अपने पुत्र प्रिंस को कोटा में पढ़ाते थे जहां उसे छोड़ने अपनी गाड़ी से ही जा रहे थे तभी यह हादसा हुआ। उनकी गाड़ी की तस्वीरें सोशल मीडिया में वायरल होते ही टेसुआर गांव चर्चा में आया और पत्रकार वहां पहुंचने लगे तब लोगों को जानकारी हुई कि ऐसा कोई हादसा हुआ है।

बता दें कि वाराणसी में कैंट स्टेशन के सामने सड़क पर उत्तर प्रदेश राज्य सेतु निगम फ्लाई ओवर का निर्माण करा रहा है। मंगलवार शाम को निर्माणाधीन फ्लाईओवर का एक स्पैन गिर गया। जिससे कि एक दर्जन से अधिक बाइक तथा कार इसकी चपेट में आ गए। स्पैन गिरने से 18 लोगों की मौत हो गई है, इसके साथ ही 30 से अधिक लोग घायल हैं।

जिनको स्थानीय लोग किसी तरह से पिलर के नीचे से निकालकर बाहर लाए। हादसे के बाद वाराणसी पहुंचे डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने चार लोगों को निलंबित कर दिया। इसके साथ ही उन्होंने मामले की जांच के लिए तीन सदस्यीय कमेटी गठित की है, जो 15 दिन के भीतर अपनी जांच रिपोर्ट सौंपेगी।

Source: live bihar

Leave a Reply

Your email address will not be published.