बिहार की बेटी ज्योति ने इसराे में कंप्यूटर वैज्ञानिक बनी, परीक्षा में देशभर में मिला तीसरा स्थान

बिहारी जुनून

Patna: बिहार की रहने वाली ज्योति का नाम इन दिनों बिहार में काफी चर्चाओं में बना हुआ है। बता दें कि बिहार की ज्योति इन दिनों महिला सशक्तिकरण की मिसाल बनी हुई है। दरअसल, ज्योति ने भारत के इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन अर्थात इसरो में तीसरा स्थान लाकर कंप्यूटर वैज्ञानिक का पद हासिल किया है जो बिहार के लिए एक गौरव की बात है। बता दें कि ज्योति मूलता बिहार की रहने वाली है।

जानकारी के अनुसार मुजफ्फरपुर के रहने वाली ज्योति एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखती है। वह बचपन से ही एक होनहार और मेधावी छात्रा बताई जाती है। उनकी आरंभिक पढ़ाई मुजफ्फरपुर के होली मिशन स्कूल से हुई है। दसवीं के बाद विज्ञान के प्रति रुचि होने के कारणों से उन्होंने साइंस स्ट्रीम मे 95.5% अंक प्राप्त किए थे। इसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाने की सोची। उन्होंने साल 2019 में भागलपुर इंजीनियरिंग कॉलेज से कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई पूरी की। जिसके बाद उन्हें कोल इंडिया और नेशनल इन्फार्मेटिक्स सेंटर में भी नौकरी मौका मिला था।

जानकारी के अनुसार कोल इंडिया में नौकरी करने का दौरा नहीं उनके मन में वैज्ञानिक बनने की इच्छा जागी। इसके बाद उन्होंने इसरो द्वारा पिछले साल आयोजित की गई वैज्ञानिक पदों के लिए प्रवेश परीक्षा में भाग लिया। जानकारी के अनुसार प्रवेश परीक्षा में अच्छे नंबरों से पास होने के कारण 16 मार्च 2021 को इंटरव्यू के लिए उनका सिलेक्शन हुआ। इंटरव्यू में अपने शानदार प्रदर्शन से उन्होंने इसरो की परीक्षा में ऑल इंडिया तीसरा रैंक हासिल किया है। बता दें कि अब ज्योति इसरो में कंप्यूटर वैज्ञानिक के पद पर कार्यभार का ग्रहण करेगी।

मुजफ्फरपुर की ज्योति की सफलता से ना केवल उनका परिवार गौरवान्वित है बल्कि उन्होंने मुजफ्फरपुर के साथ-साथ पूरे बिहार का नाम देश में गौरवान्वित किया है। वह आज महिला सशक्तिकरण की एक मिसाल बनकर सामने आई है। उन्होंने राज्य की सभी बेटियों को यह प्रेरणा दी है कि अगर वह चाहे तो हर क्षेत्र में आगे बढ़ कर अपने परिवार के साथ साथ अपने राज्य और देश का नाम भी रोशन कर सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.