कभी बॉलीवुड ने कहा था- इस शक्ल पर कैसे बनोगे हीरो? पटना का ये छोरा बना हॉलीवुड फिल्म में हीरो

मनोरंजन

यहां के अमनौर के रहने वाले जिस प्रभाकरण शरण को बॉलीवुड ने कभी रिजेक्ट कर दिया था, अब वो प्रभाकर हॉलीवुड फिल्म में लीड एक्टर के तौर पर काम कर रहा है।

पटना के सेंट्रल स्कूल से 10वीं तक की पढ़ाई करने वाले प्रभाकर ने स्ट्रगल के दिनों में कपड़े की दुकान भी खोली थी।
प्रभाकर ने बातचीत में बताया कि जब उन्होंने बॉलीवुड में एक्टिंग की सोची थी तो वे मनोज वाजपेयी के पिता के पास पहुंचे थे।

फिर प्रभाकर ने उनसे एक लेटर लिखवाया और उसे लेकर बॉलीवुड के कई डायरेक्टर्स और प्रोड्यूसर्स के पास पहुंचे लेकिन सभी ने मना कर दिया। इसके बाद प्रभाकर बिजनेस के सिलसिले में लैटिन अमेरिका के कोस्टारिका पहुंच गए। यहां उन्होंने मुल्तानी मिट्टी, अगरबत्ती, लकड़ी बेचना शुरू किया।

फिर टेक्सटाइल बिजनेस में कदम रखा और उसके बाद फिल्म वितरण और फिर ‘मॉन्सटर ट्रक जैम शो’ में भी काम किया। फिर प्रभाकर ने कोस्टारिका में बॉलीवुड की पांच-छह फिल्में खरीदकर रिलीज करवाईं।



उन्होंने साल 2006 में उन्होंने लैटिन अमेरिका में अक्षय कुमार की फिल्म ‘गरम मसाला’, ‘कहो न प्यार है’, ‘बनारस’ जैसी फिल्म रिलीज की। उस समय वे 20-25 लाख रुपए में फिल्में खरीदते थे, जबकि आमदनी 2 लाख से 3 लाख तक ही होती थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.