बिहार बोर्ड का महाघोटाला: बड़ा खुलासा यह है कि जिस ​परीक्षार्थी को मिलने थे 32 अंक, उसे महज 2 अंक दिये गये,5 लाख रुपये का जुर्माना किया था.

खबरें बिहार की

बिहार बोर्ड का महाघोटाला थम नहीं रहा है. एक बार पटना हाई कोर्ट ने बिहार बोर्ड की पोल खोल दी है. बड़ा खुलासा यह है कि जिस ​परीक्षार्थी को मिलने थे 32 अंक, उसे महज 2 अंक दिये गये. इससे असंतुष्ट परीक्षार्थी सौरभ की रिट याचिका पर बिहार विद्यालय परीक्षा समिति (BSEB) का महाघोटाला सामने आया है. पटना हाई कोर्ट ने इसके लिए बिहार बोर्ड पर तल्ख तेवर ही नहीं अपनाया, बल्कि एक लाख रुपये का जुर्माना भी लगाया है. बता दें कि इसके पहले प्रियंका सिंह के मामले में भी हाईकोर्ट ने बिहार बोर्ड की इसी गलती के लिए 5 लाख रुपये का जुर्माना किया था.

सौरभ कुमार ने 2017 में बिहार बोर्ड से मैट्रिक की परीक्षा दी थी. उसे अंग्रेजी में महज 2 अंक आये थे. जानकारी के अनुसार सौरभ ने स्क्रूटनी के लिए आवेदन किया था, लेकिन इससे उसे कोई फायदा नहीं हुआ. इसे लेकर काफी दुखी था और इसमें सुधार के लिए बिहार बोर्ड के कार्यालय का भी काफी चक्कर लगाया. पर इससे भी कोई फायदा नहीं हुआ. तब उसने पटना हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया. जांच में खुलासा हुआ कि सौरभ को 2 नहीं, बल्कि अंग्रेजी में 32 अंक मिले हैं.

पटना हाई कोर्ट ने मामले को गंभीरता से लेते हुए गुरुवार को फाइनल सुनवाई की. कोर्ट ने 2017 में मैट्रिक की परीक्षा में शामिल छात्र सौरभ कुमार के रिजल्ट में बिलंब पर कड़ा तेवर अपनाया. पटना हाई कोर्ट के जस्टिस चक्रधारी शरण सिंह ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति पर एक लाख का जुर्माना लगाया. जुर्माने की राशि सौरभ को क्षतिपूर्ति के रूप में देने का निर्देश दिया. कोर्ट ने कहा कि बोर्ड की लापरवाही से सौरभ का एक साल बर्बाद हो गया है.

गौरतलब है कि इसी तरह का मामला सहरसा की प्रियंका सिंह की था. बख्तियारपुर के गंगा प्रसाद गांव के रहनेवाले राजीव कुमार सिंह की बेटी प्रियंका को भी बिहार बोर्ड ने फेल कर दिया था. उसे संस्कृत में महज 9 अंक दिये गये थे. तब उसने भी हार कर पटना हाई कोर्ट पहुंची. कोर्ट में ही उससे लिखवाया गया, उस कॉपी की मार्किंग हुई तो प्रिंयका को 80 नंबर मिले. तब पटना हाई कोर्ट ने बिहार बोर्ड को लताड़ लगाते हुए उस पर 5 लाख का जुर्माना लगाया था और जुर्माने की राशि याचिकाकर्ता प्रियंका को देने का निर्देश दिया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.