बिहार विश्वविद्यालय: तीन हजार छात्र एक साथ पड़ गए बीमार! डॉक्टर का पुर्जा भेजकर विश्वविद्यालय को दी जानकारी

जानकारी

बीआरए बिहार विश्वविद्यालय के पार्ट वन में दाखिला छूट गया तो तीन हजार छात्र एक साथ बीमार पड़ गये। यह चौंकाने वाला मामला विश्वविद्यालय के यूएमआइएस के पास आया है। तीन हजार छात्रों ने आवेदन देकर कहा है कि एडमिशन के समय वह बीमार पड़ गये थे, इसलिए समय पर दाखिला नहीं ले सके, इसलिए उन्हें दाखिला का एक और मौका दिया जाये। यूएमआइएस कॉर्डिनेटर प्रो. ललन कुमार झा ने बताया कि इन छात्रों को तीसरी मेरिट लिस्ट में मौका दिया जायेगा। स्नातक पार्ट वन में पहली मेरिट लिस्ट में दाखिले की अंतिम तारीख 20 सितंबर तक थी।

 

पहली मेरिट लिस्ट वाले दूसरी लिस्ट में भी नहीं पहुंचे

बीआरए बिहार विवि के यूएमआइएस कॉर्डिनेटर ने बताया कि जिन छात्रों का दाखिला पहली लिस्ट में नहीं हुआ, वह दूसरी मेरिट लिस्ट के निकलने के बाद भी दाखिला लेने नहीं पहुंचे। चार-पांच दिन पहले एक साथ इतने छात्रों का आवदेन आया कि वह बीमार पड़ गये और पहली मेरिट लिस्ट में नाम आने के बाद भी दाखिला नहीं ले सके। कॉर्डिनेटर ने बताया कि दूसरी मेरिट लिस्ट में भी करीब छह हजार सीटें खाली रह गयी हैं। दूसरी मेरिट लिस्ट में 13 हजार 500 छात्रों के नाम निकाले गये थे, लेकिन 7300 छात्रों ने ही दाखिला लिया है।

 

जारी होगी स्नातक की तीसरी मेरिट लिस्ट 

 

बीआरए बिहार विवि में स्नातक की तीसरी लिस्ट में 33 हजार छात्रों का चयन किया गया है। यूएमआइएस कॉर्डिनेटर ने बताया कि मेरिट लिस्ट निकालने के बाद 14 से 25 अक्टूबर तक दाखिला लिया जायेगा। इस मेरिट लिस्ट में पहली और दूसरी मेरिट लिस्ट में छूटे छात्रों को भी मौका दिया जायेगा। बिहार विवि में एक लाख 30 हजार सीटों पर स्नातक में दाखिला लिया जाना है।

 

छात्रों ने अपने आवेदन के साथ डॉक्टरों का पर्चा भी लगाया

 

मेरिट लिस्ट में आये छात्र अभिषेक कुमार ने अपने आवेदन में कहा है कि 11 सितंबर से ही उसे वायरल बुखार हो गया था। वायरल बुखार के साथ टाइफाइड भी हो गया। इस कारण वह एडमिशन लेने नहीं पहुंचा। एक अन्य छात्र रोहित कुमार ने विवि से गुहार लगायी है कि उसके जोड़ों में काफी दर्द रहता है, 13 सितंबर से ही दर्द बढ़ गया था, इसलिए वह कहीं बाहर जाने की स्थिति में नहीं था। इस कारण उसका दाखिला छूट गया। इन छात्रों ने आवेदन के साथ डॉक्टरों का पर्चा भी लगाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *