बिहार के इस गांव में किसी की शादी होने पर पूरा गांव जमाता है दही, मिटटी के बर्तनों में पहुंचाते हैं घर

संस्कृति और परंपरा

यह उत्तर प्रदेश के बलिया जिला स्थित नरहीं गांव है। किसी के भी घर शादी हो, वह पूरे गांव में एक-एक मिट्टी का पात्र बांट आता है। पात्र पर नाम व विवाह तिथि अंकित होती है।

अब सभी ग्रामवासी उस पात्र में दही जमाते हैं और विवाह संध्या पर पूरे गांव से सैकड़ों पात्रों में भरा दही संबंधित व्यक्ति के यहां पहुंच जाता है। लाख दुश्मनी हो, लेकिन दही पहुंचाना कोई नहीं भूलता, वह भी नि:शुल्क।

दरकते सामाजिक ताने-बाने को बांधे रखने की ऐसी बेमिसाल रिवाजों के चलते ही आज भी भारत के गांव अपनी सोंधी महक सहेज सके हैं। ग्रामसभा नरहीं में यह लोगों को एक-दूसरे से जोड़े हुए है।

किसी भी मांगलिक आयोजन से पूर्व संबंधित व्यक्ति द्वारा दही जमाने के लिए गांव में मिट्टी का पात्र बांटा जाता है। आयोजन दिवस की संध्या तक सभी घरों से दही जमे पात्र उसके यहां पहुंच जाते हैं। आज जहां किसी आयोजन में दही खिलाने की समाप्त सी होती जा रही है, वहीं नरही में दही की मानों नदी बह जाती है।

गांव के अवकाश प्राप्त प्रवक्ता अमरदेव राय, पूर्व प्रधानाचार्य अनंत राय दादा आदि बताते हैं कि को अस्तित्व में लाने के पीछे उद्देश्य यही था कि गांव के लोगों में एकजुटता व भाईचारा कायम रहे। जिसके घर आयोजन होता है, उसकी मदद भी हो जाती है।

नरहीं ग्राम की प्रधान कौशल्या देवी कहती हैं ‘सदियां बीतती रहती हैं, परिस्थितियां बनती-बिगड़ती रहती हैं, लेकिन समाज को बांधे रखने के लिए ओं को जिंदा रखना बहुत जरूरी है’।बलिया के नरहीं ग्राम में दही का पात्र लिए युवक। जिसके घर आयोजन रहता है, उस परिवार के लोग आयोजन से एक सप्ताह पूर्व सबके यहां पात्र पहुंचा देते हैं।

पात्र पर नाम व तारीख लिखी होती है, ताकि एक ही दिन यदि दो-तीन आयोजन हों तो पात्रों की अदला बदली न हो जाए। आयोजन के दिन दही से भरा पात्र संबंधित व्यक्ति के घर पहुंचा दिया जाता है।पात्र पर लिखा जाता नाम व तिथि1जिसके घर आयोजन रहता है, उस परिवार के लोग आयोजन से एक सप्ताह पूर्व सबके यहां पात्र पहुंचा देते हैं।

पात्र पर नाम व तारीख लिखी होती है, ताकि एक ही दिन यदि दो-तीन आयोजन हों तो पात्रों की अदला बदली न हो जाए। आयोजन के दिन दही से भरा पात्र संबंधित व्यक्ति के घर पहुंचा दिया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.