बिहार पुलिस दारोगा बहाली की प्रारंभिक परीक्षा का रिजल्ट जारी.. मुख्य परीक्षा की 5 महत्वपूर्ण बातें

खबरें बिहार की

बिहार पुलिस में दारोगा के 1717 पदों के लिए हुई बिहार पुलिस सब-इंस्पेक्टर ( बिहार पुलिस दारोगा भर्ती परीक्षा ) प्री एग्जाम के नतीजे शुक्रवार को घोषित कर दिए गए। सफल अभ्यर्थियों को अब मुख्य परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलेगा। रिक्तियों के मुकाबले 20 गुणा ज्यादा अभ्यर्थियों का चयन मुख्य परीक्षा के लिए किया गया है।

दारोगा के 1717 पदों के लिए पिछले साल अक्टूबर में विज्ञापन निकाला गया था। बहाली की प्रक्रिया बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग द्वारा की जा रही है। 24 अक्टूबर से 30 नवम्बर 2017 तक ऑनलाइन आवेदन लिए गए थे।

प्रारंभिक लिखित परीक्षा के लिए 4 लाख 28 हजार से ज्यादा अभ्यर्थियों को प्रवेश पत्र जारी किया गया था। 11 मार्च को लिखित परीक्षा आयोजित की थी। इसके लिए राज्भर में 708 परीक्षा केन्द्र बनाए गए थे। शुक्रवार को आयोग ने प्रारंभिक लिखित परीक्षा की परिणाम जारी कर दिया।

अगर आए समान अंक तो किसका होगा सेलेक्शन?

अब उम्मीदवारों को मेन एग्जाम (मुख्य लिखित परीक्षा) और फिजिकल एफिशियंसी टेस्ट देना होगा। जॉब के लिए उम्मीदवारों का फाइनल सेलेक्शन उस मेरिट के बेस पर होगा जो कि मेन एग्जाम में प्राप्त अंकों के आधार पर बनेगी। फिजिकल एफिशियंसी टेस्ट केवल क्वालिफाइंग होगा।

प्रारंभिक परीक्षा का पूरा रिजल्ट देखने के लिए परीक्षार्थी यहां क्लिक करें

लेकिन अगर मेन परीक्षा में 2 या 2 से अधिक अभ्यर्थियों के समान अंक आए तो किसका सेलेक्शन होगा? ऐसी स्थित में जन्मतिथि के आधार पर सेलेक्शन किया जाएगा। जिसका उम्र ज्यादा होगी, उसका सेलेक्शन होगा। उम्र में वरीय अभ्यर्थी मेरिट में ऊपर रहेंगे।

और अगर अंक व जन्मतिथि दोनों समान हुए तब क्या होगा? ऐसी स्थित में शैक्षणिक योग्यता के आधार पर चयन किया जायेगा। अर्थात अधिक शैक्षणिक योग्यता वाले अभ्यर्थी मेरिट में ऊपर रहेंगे।

इसके बावजूद भी यदि एक से अधिक अभ्यर्थी समान हों तो ऐसे अभ्यर्थियां की वरीयता उनके 10वीं बोर्ड प्रमाण-पत्र में उल्लिखित नाम के अंग्रेज़ी वर्णमाला के क्रम के अनुसार निर्धारित की जाएगी।

मुख्य परीक्षा के आधार पर तैयार की जानेवाली अन्तिम मेरिट लिस्ट के लिए अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम अहर्तांक 33.5 प्रतिशत, अत्यंत पिछड़ा वर्ग एवं पिछड़ा वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम अहर्तांक 35 प्रतिशत तथा सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों के लिए न्यूनतम अहर्तांक 40 प्रतिशत होगा।

अब अगली चुनौती है – मुख्य परीक्षा

1. मुख्य परीक्षा में दो पेपर होंगे। पहला पेपर 200 अंकों का होगा। यह पेपर सामान्य हिन्दी का 2 घंटे का होगा। इसमें 100 प्रश्न होंगे। इस पेपर में कम से कम 30 अंक प्राप्त करना अनिवार्य है। यह न्यूनतम क्वालिफाइंग अंक है। वरना उम्मीदवार को अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा। सामान्य हिन्दी पेपर के मार्क्स फाइनल सेलेक्शन के लिए बनने वाली ‘मेरिट लिस्ट’ में नहीं जोड़े जाएंगे।

2. दूसरा पेपर सामान्य अध्ययन, सामान्य विज्ञान, नागरिक शास्त्र, भारतीय इतिहास, भारतीय भूगोल, गणित एवं मानसिक योग्यता जांच से सम्बन्धित होगा। दूसरा पेपर भी 200 अंकों का होगा। दो घंटे की इस परीक्षा में कुल प्रश्नों की संख्या 100 होगी।

3. दोनों पेपरों की परीक्षा में प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 0.2 अंक काटा जायेगा। उत्तर पुस्तिका दो प्रतियां में होगी, जिसकी एक प्रति आयोग के पास सुरक्षित रखी जायेगी।

4. मेन एग्जाम (मुख्य लिखित परीक्षा) में प्रदर्शन के आधार पर वैकेंसी के 6 गुणा अभ्यर्थियों का चयन शारीरिक दक्षता परीक्षा (फिजिकल एफिशियंसी टेस्ट – पीईटी) के लिए किया जायेगा।

5. उम्मीदवारों को शारीरिक दक्षता परीक्षा में सिर्फ पास होना जरूरी होगा। अंत में मेडिकल टेस्ट होगा।

इस बार बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग दारोगा की परीक्षा ले रहा है जबकि पहले ये परीक्षा कर्मचारी चयन आयोग लेता था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.