बिहार में मंकीपॉक्स का खतरा बढ़ा, पटना और राजगीर में मिले दो संदिग्ध मरीज

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में मंकीपॉक्स का खतरा बढ़ता जा रहा है। राजधानी पटना और नालंदा जिले के राजगीर में मंकीपॉक्स के दो संदिग्ध मरीज मिलने से हड़कंप मच गया है। बिहार में अभी मंकीपॉक्स की जांच की सुविधा नहीं है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग ने उनका सैंपल लेकर जांच के लिए पुणे भेजा है। मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग में इसे लेकर हाईलेवल मीटिंग भी हुई।

पटना के खाजेकलां थाना इलाके के गुरहट्टा खत्री गली में रहने वाली एक महिला में मंकीपॉक्स के लक्षण देखने को मिले हैं। बुखार के बाद महिला के हाथ में जुलपती जैसा हुआ। विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉक्टर और पीएमसीएच के विशेषज्ञों ने उसके सैंपल ले लिए। हालांकि महिला की कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं है। हालांकि स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इसे मंकीपॉक्स का केस होने से इनकार कर रहे हैं।

वहीं, नालंदा जिले के राजगीर में एक युवक को भी मंकपॉक्स का संदिग्ध पाया गया है। उसके शरीर पर दाने दिखने के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम ने उसका सैंपल ले लिया है। सैंपल को जांच के लिए पुणे भेजा जा रहा है। रिपोर्ट 4-5 दिन में आएगी। राज्य में मंकीपॉक्स के संभावित खतरे को देखते हुए सतर्कता बढ़ा दी गई है।

हाल ही में केंद्र सरकार ने बिहार में मंकीपॉक्स को लेकर अलर्ट जारी किया। इसके बाद मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग में उच्च अधिकारियों की बैठक हुई। इसमें विशेषज्ञों ने सभी जिलों के अधिकारियों को मंकीपॉक्स के संदिग्धों की तलाश करने और इसके बारे में जागरुकता फैलाने के निर्देश दिए। खास तौर पर ग्रामीण इलाकों में आशा कार्यकर्ता और एएनएम के जरिए लोगों को मंकीपॉक्स को लेकर जागरूक करने की बात कही गई। साथ ही इस बीमारी से जुड़े सभी मामलों का रिकॉर्ड रखने के निर्देश दिए गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.