बिहार में श्रावणी मेला आज से शुरू, सुल्तानगंज में डिप्टी CM तारकिशोर प्रसाद करेंगे उद्घाटन

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में भागलपुर जिले के सुल्तानगंज में श्रावणी मेला और कांवर यात्रा की गुरुवार को विधिवत शुरुआत होगी। बिहार के डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद अजगैवीनाथ धाम के नमामि गंगे घाट पर मेले का उद्घाटन करेंगे। हालांकि कई कांवरिये गुरु पूर्णिमा के मौके पर बुधवार को ही गंगा स्नान कर जल लेकर झारखंड के देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ धाम के लिए रवाना हो गए। सुल्तानगंज में श्रावणी मेला को लेकर तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

सुल्तानगंज में मंगलवार शाम से ही कांवरियों की भीड़ जुटना शुरू हो गई। बुधवार को बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने गंगा स्नान किया। गुरुवार को मेले का आधिकारिक रूप से उद्घाटन होगा। उद्घाटन के समारोह के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित होंगे। इसमें प्रमुख कलाकार बाबा हंसराज रघुवंशी शामिल होंगे।

कई मंत्री-विधायक उद्घाटन कार्यक्रम में रहेंगे मौजूद

भागलपुर जिले के सुल्तानगंज में गुरुवार को डिप्टी सीएम तारकिशोर प्रसाद मेले का उद्घाटन करेंगे। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री रामसूरत राय करेंगे। इस समारोह में पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद, उद्योग मंत्री सैयद शाहनवाज हुसैन, स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेट, जल संसाधन मंत्री संजय कुमार झा, पथ निर्माण मंत्री नितिन नवीन, पंचायतीराज मंत्रई सम्राट चौधरी, कला एवं संस्कृति मंत्री आलोक रंजन समेत अन्य कई विधायक और सांसद शामिल होंगे।

कांवरियों के लिए मोबाइल ऐप लॉन्च

झारखंड में बुधवार को ही श्रावणी मेला की शुरुआत हो गई। राज्य के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख और बीजेपी सांसद निशिकांत दुबे ने बिहार बॉर्डर पर स्थित दुम्मा में मंत्रोच्चार के साथ मेले का उद्घाटन किया। बुधवार को बिहार के पर्यटन विभाग ने कांवर यात्रा 2022 से जुड़ा मोबाइल ऐप भी लॉन्च किया। इसमें कांवरियों से संबंधित सभी जरूरी जानकारी मिलेगी।

कांवर यात्रा के लिए ये रहेगा रूट

श्रावणी मेला के दौरान कांवर यात्रा के लिए सुल्तानगंज से देवघर के बीच 95 किलोमीटर लंबा कच्चा कांवरिया पथ बनाया गया है। इस पर गंगा की बालू बिछाई गई है। कांवरियों की सुविधा के लिए नियमित रूप से पानी का छिड़काव किया जाएगा। आम लोगों को कांवरिया पथ पर जाने की इजाजत नहीं होगी। कांवरिये सुल्तानगंज स्टेशन से लेकर असरगंज, मनियामोड़, कुमरसार, जलेबिया, अबरखा, कटोरिया, इनारावरण, गोड़ियारी, कलकतिया और दर्शनिया होते हुए बाबा वैद्यनाथ धाम पहुंचेंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.