बिहार में शिक्षक बहाली पर अभ्यर्थियों ने जताया अनोखा विरोध, पटना में ब्रह्मभोज कर बता दी आगे की रणनीति

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में शिक्षक बहाली का इंतजार कर रहे युवाओं का सब्र अब जवाब देने लगा है। राज्‍य में महागठबंधन की नई सरकार बनने के बाद शिक्षक अभ्यर्थियों को यह उम्‍मीद थी कि सातवें चरण की शिक्षक बहाली जल्‍दी शुरू हो जाएगी। हालांकि अब तक ऐसा नहीं हो सका है। इससे नाराज अभ्यर्थियों ने गुरुवार को अनोखा तरीका अपनाकर अपना विरोध जताया था।

पटना में ब्रह्मभोज के जरिए जताया विरोध

सातवें चरण के नियोजन को लेकर शिक्षक अभ्यर्थियों ने गुरुवार से आंदोलन तेज कर दिया है। विरोधस्वरूप शिक्षक अभ्यर्थियों ने गुरुवार को ब्रह्मभोज का आयोजन किया किया। इस कार्यक्रम में राज्य के कोने-कोने से आए अभ्यर्थियों ने भाग लिया। अभ्यर्थी पिछले चार नवंबर से पटना में धरना पर बैठे हुए हैं। शिक्षा विभाग की ओर से भर्ती प्रक्र‍िया शुरू करने में देरी को लेकर उनकी नाराजगी बढ़ती ही जा रही है।

सत्‍ता पक्ष के विधायक ने दिया समर्थन

धरनास्थल पर बैठे अभ्यर्थियों के बीच पहुंचे पालीगंज के विधायक संदीप सौरभ ने कहा कि सरकार को अभ्यर्थियों की मांगों पर ध्यान देकर जल्द से जल्द उसका समाधान निकालना चाहिए। शिक्षक अभ्‍यर्थियों का कहना है कि विपक्ष में रहते हुए तेजस्‍वी यादव उनसे मिलने धरनास्‍थल पर आते थे और बड़े दावे करते थे। अब सरकार में उप मुख्‍यमंत्री बनने के बाद वैसी तत्‍परता नहीं दिखा रहे हैं।

सरकार पर दबाव बनाने की कोश‍िश

 

मौके पर बिहार प्रारंभिक युवा शिक्षक संघ के अध्यक्ष दीपांकर गौरव ने कहा कि सरकार से बार-बार आग्रह किया गया, परंतु सरकार उनकी बातों पर ध्यान नहीं दे रही है। ऐसे में अभ्यर्थियों का आक्रोश बढ़ते जा रहा है। संगठन के कार्यकारी अध्यक्ष नितेश पांडेय एवं कुमार सत्यम ने कहा कि शिक्षा विभाग से बार-बार आग्रह करने के उपरांत भी सातवें चरण का नियोजन नहीं किया जा रहा है। अभ्‍यर्थियों का कहना है कि जल्‍दी प्रक्रिया नहीं शुरू करने पर आंदोलन को और तेज करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.