बिहार में सड़क पर घूम रहे क्रूर सिंह को देखकर चौंकना नहीं, बहरूपियों का मेजबान है बेतिया

खबरें बिहार की जानकारी

बहुरूपिया कला में माहिर राजस्थान के जयपुर निवासी गुड्डू बहुरूपिया लगातार 25 वर्षों से बिहार के बेतिया के चनपटिया आते हैं। उनके पूर्वज भी इसी कला के सहारे अपना जीवन-यापन करते थे। वर्तमान में वह अपने एक भाई के साथ इस कला का प्रदर्शन विभिन्न राज्यों में घूम-घूम कर करते हैं।

हर वर्ष गुड्डू किराये का मकान ले लगातार 10 से 12 दिन तक अलग-अलग वेश बनाते हैं। कभी चंद्रकांता का क्रूर सिंह, पागल, भगवान, तो कभी अंधा व लंगड़ा की दोस्ती सहित विभिन्न रूपों को धारण कर लोगों का मनोरंजन करते हैं और चले जाते हैं।

इसके बदले वह स्थानीय दुकानदारों व लोगों से अंतिम दिन पारिश्रमिक के रूप में रुपया भी वसूलते हैं। उनके इस कला को देखने के लिए सबसे ज्यादा बच्चों की भीड़ जुटती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.