बिहार में फिर मिली अमेरिका की सकर माउथ कैटफिश, भारतीय नदियों के लिए खतरा है ये मछली

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में एक बार फिर अमेरिका की अमेजन नदी में पाई जाने वाली सकर माउथ कैटफिश पबाई गई है। पश्चिमी चंपारण जिले में बगहा प्रखंड के चंदरपुर-रतवल पंचायत की रोहुआ नदी में सोमवार को मछली मारने गए मछुआरों को सकर माउथ कैटफिश मछली मिली। लोगों के लिए यह दुर्लभ मछली कौतूहल का विषय बन गई। मछली देखने के लिए लोगों की भीड़ जमा हो गई। बताया जा रहा है कि यह मछली भारतीय नदियों के लिए खतरा है। यह मांसाहारी मछली होती है तो छोटे जलीय जीवों का भक्षण करके पारिस्थितिकी तंत्र को बिगाड़ देती है।

हजारों किलोमीटर दूर साउथ अमेरिका की अमेजन नदी में पाई जानी वाली सकर माउथ कैटफिश रोहुआ नदी में मिलना आश्चर्य पैदा करने वाल बात है। गंडक से निकली छोटी सी रोहुआ नदी जो पतिलार से होकर गुजरती है, उसमें स्थानीय मछुआरों को अजीबोगरीब मछली मिली। इसकी सकर माउथ कैटफिश के रूप में हुई। इससे पहले भी यह मछली बगहा में मिल चुकी है।

वैज्ञानिकों ने चिंता जाहिर करते हुए कहा कि यह मछली मांसाहारी है और अपने इकोसिस्टम के लिए खतरा भी है। यह आसपास के जीव-जंतुओं को खाकर जिंदा रहती है। इस वजह से यह किसी महत्वपूर्ण मछली या जीव को पनपने नहीं देती है। जबकि इस कैटफिश की खुद की फूड वैल्यू कुछ नहीं है। क्योंकि यह बेस्वाद होती है। लोग इसे खाना पसंद नहीं करते हैं। इस लिहाज से यह स्थानीय नदियों के पारिस्थितिकी तंत्र के लिए बड़ा खतरा है।

छोटी-छोटी नदियों में कैटफिश के मिलने के बाद इसके बढ़ाव को रोका भी नहीं जा सकता है। यह मछली अपनी खूबसूरती के चलते ऑर्नामेंटल फिश की श्रेणी में आती है, इसलिए लोग शौक से इसे एक्वेरियम में पालते हैं। जब इसका आकार बड़ा हो जाता है, तो उसे आसपास की नदियों में छोड़ दिया जाता है। ऐसा करना से काफी गलत परिणाम सामने आ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.