बिहार में कूड़े का अंबार, नगर निगम हड़ताल का 11वां दिन, पटना में कर्मचारियों ने सफाई वाहन तोड़ा

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार के पटना में नगर निगम की सफाईकर्मचारियों की 11 वें दिन हड़ताल जारी है। सोमवार को प्रदर्शन कर रहे सफाई कर्मियों ने स्वीपिंग वाहन को क्षतिग्रस्त कर दिया। अपनी मांगों को लेकर धरने पर बैठे नगर निगम के सफाई कर्मचारियों के प्रदर्शन के चलते शहर के कई हिस्सों में जगह जगह पर कूड़ा जमा हो गया है। सोमवार को नगर निगम प्रशासन ने कुछ इलाकों की मुख्य सड़कों से कूड़ा उठाया, गलियों की स्थिति बदतर बनी हुई है। वहीं, सड़क की सफाई कर रहे दो रोड स्वीपिंग वाहन को क्षतिग्रस्त करने का केस नगर निगम ने दर्ज कराया है। तीन नामजद और 20 अज्ञात के खिलाफ कंकड़बाग थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

क्षतिग्रस्त की गई स्वीपिंग मशीन और जेसीबी


नगर निगम प्रशासन का कहना है कि कर्मियों द्वारा रविवार की देर रात कंकड़बाग अंचल की दो रोड स्वीपिंग मशीन को क्षतिग्रस्त कर दिया गया। घटना उस समय घटी जब रोड स्वीपिंग मशीन से मीठापुर फ्लाई ओवर के समीप सड़क की सफाई की जा रही थी। अचानक एक साथ 30-40 की संख्या में पहुंचे हड़ताली कर्मियों ने हमला बोल दिया। उग्र कर्मियों को देख सफाई कार्य कर रहे लोग भाग खड़े हुए। उग्र कर्मियों ने दोनों रोड स्वीपिंग मशीन के टायरों को और शीशे को क्षतिग्रस्त कर दिया। निगम के एक पदाधिकारी ने बताया कि इससे पहले रविवार को कंकड़बाग अंचल के 60 से अधिक सफाई वाहनों और एक जेसीबी मशीन को क्षतिग्रस्त किया गया था।

उग्र प्रदर्शनकारियों के खिलाफ होगी कार्रवाई 
अधिकारी ने बताया कि नगर आयुक्त द्वारा स्पष्ट निर्देश दिया गया है कि संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों पर कड़ी कार्रवाई करने के साथ उनसे राशि की वसूली भी की जाएगी। न्यायालय द्वारा आदेश आने के बाद भी न सिर्फ सफाई कर्मियों द्वारा हड़ताल की जा रही है बल्कि सरकारी संपत्ति को भी लगातार नुकसान पहुंचाया जा रहा है।

कोर्ट का आदेश नहीं मान रहे प्रदर्शनकारी  
पटना के नगर आयुक्त अनिमेष पराशर ने कहा कि हड़ताल पूरी तरह अवैध है। पटना हाईकोर्ट ने एक सितंबर को ही हड़ताल वापस लेने का आदेश दिया था। प्रधान सचिव की अध्यक्षता में हड़ताली कर्मियों के संघ के नेताओं से तीन से चार बार वार्ता हो चुकी है। उनकी मांगों पर सहानुभूति पूर्वक विचार करने का आश्वासन भी दिया गया। बावजूद संघ हड़ताल जारी रखने पर अड़ा हुआ है। ऐसे उपद्रवियों से कड़ाई से निपटा जाएगा।

अधिकारी नहीं मान रहे बात 
बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा ने नगर विकास विभाग के अधिकारियों पर बात ना मानने का आरोप लगाया। संघ के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश सिंह, महामंत्री श्यामलाल प्रसाद, रामयत्न प्रसाद, अमृत प्रसाद, मंगल पासवान ने संयुक्त बयान जारी कर कहा कि कर्मियों की सेवा शर्तों व प्रशासनिक स्वायत्तता में विभागीय हस्तक्षेप अचानक बढ़ गया है। इस कारण वार्ता सफल नहीं हो पा रही है।

मुसीबत में जनजीवन
पटना की कई सड़कें कचरे के ढेर में तब्दील हो गई हैं। कचरा प्वाइंट पर कचरे के ढेर में सड़न होने लगी है। साथ ही वहां फेंके गए मृत पशुओं ने मुसीबत और बढ़ा दी है। न्यू पाटलिपुत्र कॉलोनी,कंकड़बाग एलआईसी कॉलोनी, सब्जी मंडी, टैंपो स्टैंड, बाजार समिति, बेऊर मोड़, मीठापुर बस स्टैंड के समीप सड़क पर पसरे कचरे की सड़न से गंदगी रिसने लगी है। कचरे के ढेर के पास मृत पशुओं के फेंके जाने से आवारा कुत्तों का जमावड़ा हो गया है। कचरे से उठने वाली बदबू से घरों में रहना मुश्किल हो गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.