बिहार में खाद की कालाबाजारी के आरोप पर सुधाकर सिंह का पलटवार- केंद्र ने 25% कम यूरिया दिया है

खबरें बिहार की जानकारी

कृषि मंत्री सुधाकर सिंह ने कहा कि बिहार में एक माह से खाद की आपूर्ति धीमी कर दी गयी है। बिहार में एक माह पूर्व भाजपा के ही कृषि मंत्री थे, जब खाद की कालाबाजारी हो रही थी। इसलिए मैंने  कृषि विभाग की कार्य प्रणाली पर सवाल उठाया था। तब उसे मौजूदा सरकार के खिलाफ ही बताया जाने लगा। जबकि यह सच्चाई है कि किसानों को आवश्यकता से कम खाद की आपूर्ति केंद्र द्वारा हुई है। उन्होंने केंद्रीय उर्वरक राज्यमंत्री की बातों को तथ्य से भिन्न बताया।

सुधाकर सिंह ने शुक्रवार को मीडिया से बातचीत में कहा कि खरीफ मौसम अप्रैल से सितम्बर तक माना जाता है। इसलिए अप्रैल से सितम्बर के बीच आपूर्ति किये गये उर्वरकों के आंकड़ों को देखने से स्थिति स्वतः स्पष्ट है कि बिहार को आवश्यकता से कम उर्वरकों की आपूर्ति की गई है। कृषि मंत्री ने कहा कि निर्धारित मूल्य पर खाद उपलब्ध कराने को लेकर जीरो टॉलरेंस की नीति को अपनाया गया है और नियमित रुप से खाद प्रतिष्ठानों का निरीक्षण एवं सघन छापेमारी की जा रही है। कर्तव्य में लापरवाही बरतने वाले अधिकारी के विरूद्ध भी कारवाई की जा रही है।

गौरतलब है कि आज केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री भगवंत खुबा ने दावा किया कि बिहार ही नहीं पूरे देश में उर्वरक की कोई किल्लत नहीं है। खाद की कमी के बिहार सरकार के दावे को खारिज करते हुए आरोप लगाया कि राज्य में उर्वरकों की कृत्रिम कमी पैदा की गई। यह भी आरोप लगाया कि बिहार सरकार के बिचौलियों से हाथ मिलाने के कारण यह हाल हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.