बिहार में जल्द खुलने वाले हैं स्कूल? कोरोना पाबंदियों पर आज फैसला करेगी नीतीश सरकार, हट सकता है नाइट कर्फ्यू

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में कोरोना संक्रमण को लेकर लगाई गई पाबंदियों पर रविवार को फैसला होगा। इसको लेकर आपदा प्रबंधन समूह (सीएमजी) की बैठक बुलाई गई है। वर्तमान में लागू पाबंदियां छह फरवरी तक के लिए ही प्रभावी हैं। सात से राज्य में पाबंदियों पर छूट मिलने की उम्मीद है। हालांकि, इसका अंतिम फैसला सीएमजी की बैठक में ही लिया जाएगा। जानकारी के अनुसार मुख्यमंत्री नीतीश कुमार स्वयं उच्च स्तरीय बैठक कर इस पर निर्णय लेंगे।

इस बैठक के रविवार दोपहर में होने की संभावना है। गौरतलब है कि राज्य में संक्रमण दर आधा फीसदी से भी कम हो गई है। जनजीवन भी काफी हद तक सामान्य हो गया है। यह माना जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर गुजर चुकी है। ऐसे में कई अन्य पाबंदियों को समाप्त करने या शिथिल करने पर निर्णय लिए जाने की उम्मीद है। दूसरी ओर सरकार द्वारा पाबंदियों को लेकर कोरोना संक्रमण की स्थिति की नियमित रूप से सभी जिलों से फीडबैक लिया जा रहा है।

 

शिक्षा विभाग और शैक्षणिक संस्थानों से भी स्कूल-कॉलेज खोले जाने पर मंतव्य लिया गया है। स्कूल-कॉलेज खोलने पर विभाग ने भी अपना विचार रख दिया है। कोरोना संक्रमण में काफी कमी के मद्देनजर संभावना जताई जा रही है कि स्कूलों-कॉलेजों को खोल दिया जाएगा। हालांकि सभी स्कूलों को खोलने की इजाजत मिलेगी या चरणवार सभी को खोला जाएगा। इस पर भी अंतिम फैसला सीएमजी की बैठक में ही होगा। उम्मीद की जा रही है कि नाइट कर्फ्यू को भी हटा दिया जाएगा। अभी रात्रि दस से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू लागू है। 

छह जनवरी से लागू हैं पाबंदियां

कोरोनी की तीसरी लहर को लेकर राज्य में छह जनवरी से पाबंदियां लगाई गईं। चार जनवरी को हुई सीएमजी की बैठक में कक्षा आठ तक के स्कूलों और कोचिंग को बंद करने का निर्णय लिया गया था। दुकानें व प्रतिष्ठान रात आठ बजे तक खोलने की इजाजत मिली थी। साथ ही शॉपिंग मॉल, पार्क, सिनेमा हॉल को भी बंद कर दिया गया। सभी दुकानों और प्रतिष्ठानों को रात आठ बजे तक ही खुलने की अनुमति मिली। ये सभी छह फरवरी से प्रभावी थीं। हालांकि छह जनवरी को ही सरकार ने निर्णय लिया कि सभी स्तर के स्कूल और कॉलेज बंद रहेंगे। सभी पाबंदियों 21 जनवरी तक के लिए लागू हुई, जिसे फिर बढ़ाकर छह फरवरी तक के लिए कर दिया गया है। 

 

शादी समारोह में 50 की है सीमा

वर्तमान में शादी समारोह में अधिकतम 50 व्यक्तियों (स्टॉफ समेत) के शामिल होने की अनुमति है। श्राद्ध कार्यक्रम में भी 50 व्यक्तियों तक की ही इजाजत दी गई है। वहीं धार्मिक स्थलों में आम लोगों के प्रवेश पर भी रोक है। सात फरवरी से इसमें भी छूट मिलने की उम्मीद है।

 

संक्रमण दर 0.34 पर आई 

इधर, राज्य में पिछले कई दिनों से कोरोना संक्रमितों की संख्या और इसके दर में काफी कमी आई है। संक्रमण दर अब 0.34 तक आई है। वहीं दूसरी और कोरोना जांच औसतन प्रतिदिन डेढ़ लाख की जा रही है। टीकाकरण भी बड़े पैमाने पर किया जा रहा है। इसको देखते हुए जन-जीवन भी अब सामान्य होने लगा है। इससे पाबंदियां हटाए जाने की संभावानाएं प्रबल हो गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.