ब‍िहार में ग्रामीणों ने थाने में लगाई आग, हवलदार की मौत, नौ पुलिसकर्मी घायल, विधायक भी चोट‍िल

खबरें बिहार की जानकारी

 पुलिस हिरासत में युवक की मौत के बाद उपद्रव में एक हवलदार की मौत हो गई है। जबकि नौ पुलिसकर्मी गंभीर रूप से घायल है। व‍िधायक भी चोट‍िल है।  हालांकि इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो रही है। उपद्रवियों को शांत कराने के लिए पुलिस पहुंची हुई है। बलथर गांव के एक-एक घर को सर्च किया जा रहा है। अभी तक एक दर्जन के आसपास लोगों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। आर्य नगर के पास मुख्य पथ पर ग्रामीणों की भीड़ जुटी हुई है। पुलिस अभी वहां तक पहुंची नहीं है।

बता दें कि बलथर थाने के पुलिस बैरक में पुरुषोत्तमपुर थाने के हवलदार रामजतन राय समेत अन्य जवान थे। तभी ग्रामीणों ने हमला कर दिया। संभावना व्यक्त की जा रही है किसी हमला में रामजतन राय की मौत हुई है। वहीं घायल पुलिसकर्मी मोहम्मद अली मियां (बलथर),. मोहम्मद सदीक मंसूरी , पंकज सिंह (कांगली थाना) ,विजेंद्र सिंह, शिवेंद्र कुमार पंडित (सिकटा),  पवन कुमार  (बलथर ), पप्पू कुमार पांडेय (मैनाटांड़) , त्रिभुवन सिंह ( मैनाटांड़ )एवं पारस यादव (चालक सिकटा) का इलाज प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मैनाटांड़ में चल रहा है। घायलों में सिक्का थाने के चालक समेत चार की हालत गंभीर है जिन्हें बेहतर इलाज के लिए जीएमसीएच, बेतिया रेफर कर दिया गया है।

जिले के बलथर थाना क्षेत्र में आर्यानगर गांव में शनिवार की दोपहर में होली के दौरान डीजे बजाने के आरोप में हिरासत में लिए गए युवक की थाने में मौत हो गई। उसके बाद उग्र ग्रामीणों ने थाने में आग लगा दी है। फिलहाल, बलथर थाने को चारों तरफ से हजारों की संख्या में लोगों ने घेर लिया है। अन्य थानों की पुलिस भी मदद में बलथर थाने में नहीं पहुंच पा रही है। ग्रामीणों का आरोप है कि पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों की पिटाई से युवक की मौत हो गई है।

हालांकि अधिकारी पुलिस की पिटाई से युवक की मौत की बात को अफवाह बता रहे हैं। मृतक की पहचान आर्य नगर निवासी अनिरुद्ध कुमार (40) के रूप में की गई है। घटना को लेकर बलथर थाना में बवाल मचा है। हजारों की भीड़ थाना पर पहुंच थाना परिसर में रखे जब्त वाहनों में आग लगा दी है। लोगों ने मैनाटांड़ अंचल निरीक्षक के गाड़ी को भी क्षतिग्रस्त कर दिया है।

ग्रामीणों ने बताया कि होली के अवसर पर शनिवार की दोपहर आर्य नगर में कुछ युवक डीजे बजा रहे थे। इसी दौरान प्रखंड विकास पदाधिकारी मीरा शर्मा डीजे को जब्त कर थाना भिजवा दी। लोगों का आरोप है कि युवक थाने पर पहुंचे तो पुलिस कर्मियों ने पिटाई की। पिटाई के कारण उसकी की मौत हो गई। घटना के बाद लोग उग्र हो गए और बेतिया-बलथर मुख्य पथ को जाम कर दिया। लोगों ने थाना पर भी हमला बोल दिया और आग लगा दी। अभी थाना पर भीड़ जमी हुई है। थाना परिसर से आग के धुआं निकल रहा हैं। आसपास के थानों की पुलिस को भी बलथर में बुला लिया गया है। पुलिस वहां किसी को जाने की इजाजत नहीं दे रही है

नरकटियागंज के अनुमंडल पदाधिकारी धनंजय कुमार का कहना है कि पिटाई से युवक की मौत की बात अफवाह है। थाना परिसर में मधुमक्खियों के झुंड के आक्रमण के युवक की हालत चिंताजनक होने पर इलाज के लिए अस्पताल ले जाया जा रहा था। रास्ते में उसकी मौत हो गयी है। बता दें कि आक्रोशित लोगों ने बलथर थाने को करीब दो किलोमीटर के आसपास तक चारों तरफ से घेर लिया है इसलिए अभी तक कोई अधिकारी भी बलथर थाने में नहीं पहुंच पाए हैं।

भीड़ को रोकने के लिए हवाई फायरिंग 

युवक की मौत की सूचना पर हजारों की भीड़ बलथर थाने में घुसने लगी।  ग्रामीणों का कहना है कि भीड़ को रोकने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग की। तब लोगों का गुस्सा भड़क गया और थाने में आग लगा दी। हालांकि हवाई फायरिंग किए जाने की अधिकारिक पुष्टि नहीं हो रही है।

पुलिस अधिकारी नहीं उठा रहे फोन

बलथर थाने में युवक की मौत की घटना के बाद पुलिस अधिकारियों का फोन नहीं उठ रहा है। किसी का फोन नाट रिचेबल है तो कोई लगातार घंटी बजने के बाद भी नही फोन नहीं उठा रहा है।

थानेदार के निजी कार को किया आग के हवाले 

आक्रोशित ग्रामीणों ने थानेदार के निजी कार को आग के हवाले कर दिया है। थाना परिसर में हीं थानेदार का आवास है। आवास के सामने उनकी निजी कार खड़ी थी, जिसमें ग्रामीणों ने आग लगा दी हैं। हालांकि थानेदार के आवास पर ग्रामीणों ने हमला नहीं किया है। आवास में उनका परिवार सुरक्षित है। बताया जाता है कि होली को लेकर थानेदार का परिवार भी यहां आया था।

ढ़ाई घंटे बाद भी थाने तक नहीं पहुंचे अधिकारी 

पुलिस हिरासत में युवक की मौत के बाद लोगों का गुस्सा इस कदर बढ़ा हैं कि करीब ढ़ाई घंटे गुजर जाने के बाद भी सड़क जाम और प्रदर्शन जारी है। बलथर की सीमा पर करीब एक दर्जन थानों की पुलिस पहुंची है। लेकिन प्रदर्शनकारियों का गुस्सा देख कोई भी अधिकारी आगे बढ़ने की हिम्मत नहीं जुटा पा रहे हैं। नरकटियागंज के एसडीओ धनंजय कुमार, नरकटियागंज के एसडीपीओ कुंदन कुमार, साठी, शिकारपुर, मैनाटांड़, इनरवा, पुरूषोत्तमपुर, भंगहा, सिकटा, गोपालपुर आदि थानों की पुलिस बलथर की सीमा पर खड़ी है। चारों तरफ से आक्रोशित लोगों ने बलथर को घेर लिया है। प्रदर्शनकारियों को समझाने के लिए कोई जनप्रतिनिधि भी अभी तक आगे नहीं आए हैं।

आक्रोशित ग्रामीणों को समझाने पहुंचे सिकटा विधायक पर पुलिस ने चटकाई लाठी

पुलिस हिरासत में युवक की मौत के बाद उत्पन्न बवाल की सूचना पर सिकटा विधायक वीरेंद्र प्रसाद गुप्ता लोगों को समझाने के लिए पहुंचे। बलथर गांव में पुलिस की कार्यशैली से नाराज लोगों को अभी विधायक समझा ही रहे थे। तब तक लाठी डंडा लिए सैकड़ों पुलिस के जवान पहुंच गए और भीड़ को शांत करा रहे विधायक पर भी लाठी चटका दी। हालांकि तुरंत एसपी उपेंद्र नाथ वर्मा के निर्देश पर पुलिस के वरीय अधिकारी पहुंचे और विधायक को वहां से सुरक्षित निकाल कर ले गये। फिलहाल विधायक एक प्राइवेट क्लीनिक में प्राथमिक उपचार करा रहे हैं। उन्हें हल्की चोट लगी है। माले के वरीय नेता सुनील कुमार राव ने पुलिस कर्मियों की इस कार्यशैली पर नाराजगी जाहिर की है। कहां है कि विधायक तनाव को शांत करने का प्रयास कर रहे थे इसी दौरान पुलिस कर्मियों ने लाठी चला दी। गांव के भी कई लोग चोटिल हुए हैं

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.