बिहार में फिर बाघ से दहशत, गोपालगंज के दियारा में टाइगर दिखने से खलबली; रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार में एक बार फिर बाघ से दहशत का माहौल बन गया है। ताजा मामला गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर का है। यहां दियारा में स्थानीय लोगों ने टाइगर देखने का दावा किया है। सूचना मिलने पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंच गई है। रविवार को रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू कर दिया गया। पिछले दिनों पश्चिमी चंपारण जिले में वाल्मीकि टाइगर रिजर्व से सटे इलाकों में एक आदमखोर बाघ ने आतंक मचाया था, जिसे बाद में मार गिरा दिया गया।

जानकारी के मुताबिक गोपालगंज जिले के बैकुंठपुर थाना इलाके में दियारे क्षेत्र के फैजुल्लाहपुर वार्ड संख्या 12 में बाघ या बाघ जैसा जंगली जानवर देखे जाने की ग्रामीणों ने सूचना पुलिस को दी है। ग्रामीणों की सूचना पर शनिवार की रात पहुंची पुलिस ने मामले की जांच की। थानाध्यक्ष धनंजय कुमार राय ने बताया कि अधिकारिक तौर पर बाघ दिखने की पुष्टि नहीं हो सकी है। लेकिन ग्रामीणों की सूचना पर वन विभाग के रेंजर को जानकारी दी गई है।

थानेदार ने बताया कि रात होने की वजह से वन विभाग की टीम रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू नहीं कर सकी। लेकिन, सुबह में रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया। जिस जगह पर जंगली जानवर के पंजे के निशान मिले थे। उसके आधार पर वन विभाग की टीम आगे तक बढ़ती गई। मगर सफलता अब तक हाथ नहीं लग सकी है। गांव में बाघ के पंजे के निशान भी मिलने की चर्चा है। साथ ही ग्रामीणों में दहशत का माहौल कायम हो गया है। इसके लिए लोग ऐहतियात बरत रहे हैं।

ग्रामीणों ने आशंका जताई है कि गंडक नदी के रास्ते वाल्मीकिनगर टाइगर प्रोजेक्ट क्षेत्र से बाघ यहां पहुंच गया होगा। हालांकि जब तक इसकी अधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाती या फिर बाघ पकड़ा नहीं जाता,तब तक कुछ भी कहना स्पष्ट नहीं होगा। कई लोग फिशिंग कैट और तेंदुए की भी संभावना जता रहे हैं।

वीटीआर के आदमखोर बाघ का कुछ दिन पहले ही हुआ अंत

पश्चिमी चंपारण जिले में बीते कुछ महीने से आदमखोर बाघ ने अलग-अलग इलाकों में 10 लोगों को शिकार बनाकर मौत के घाट उतार दिया गया था। वन विभाग की टीम ने पहले रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया, लेकिन टाइगर पकड़ में नहीं आया। बाद में उसे जान से मारने के आदेश जारी किए गए। बीते 8 अक्टूबर को शूटर्स ने वीटीआर के आदमखोर टाइगर का अंत कर दिया। इसके बाद स्थानीय लोगों ने राहत की सांस ली।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.