बिहार में बड़ा रेल हादसा टला, दुर्घटनाग्रस्त होने से बची राजधानी एक्सप्रेस, रेलवे ट्रैक पर चोरों ने फेंका लोहे की सरिया

जानकारी

नई दिल्ली से सियालदह को जाने 12314 डाउन राजधानी एक्सप्रेस शनिवार की रात दुर्घटनाग्रस्त होने से बच गई। कुदरा स्टेटशन से महज एक किलोमीटर पश्चिम डाउन ट्रैक पर चोरों ने लोहे का सरिया फेक दिया था। इसकी जानकारी मिलते ही कुदरा रेलवे स्टेशन के अधिकारियों में खलबली मच गई ।संयोग अच्छा था कि फेका गया सरिया होम सिग्नल के अंदर था। होम सिग्नल के बाहर फेके होने के स्थिति में बहुत बड़ा रेल हादसा हो जाता।

बताया जाता है कि शनिवार की रात करीब ढाई बजे चोरों ने रेल ट्रैक पर लोहे की सरिया फेक दिया था। रेलवे के अधिकारियों की माने तो पास में बन रहे आरओबी से सरिया चुराने के दैरान चोर यहां फेके होंगे। डाउन ट्रैक पर जहां सरिया फेका गया था, वह जगह कुदरा स्टेटशन से पश्चिम होम  सिग्नल के पहले थी। इस कारण उक्त जगह पर शनिवार की रात दो बजकर अठाइस मिनट से दो बजकर चौवन मिनट तक रेल ट्रैक लाल हो गया। इसी दौरान नई दिल्ली से सियालदह को जाने वाली राजधानी एक्सप्रेस आ रही थी। ट्रैक पर सरिया फेके रहने के कारण होम सिग्नल लाल हो गया और चौदह मिनट तक राजधानी एक्सप्रेस को रोकना पड़ा।

इसकी जानकारी मिलते ही रेलवे अधिकारियों के हाथ पांव फूलने लगे। आननफानन में मौके पर पहुंचकर आरपीएफ ने रेल ट्रैक से सरिया का हटाया, तब जाकर सिग्नल ग्रीन हुआ तबतक रात के तीन बजे चुके थे। इसके बाद धीरे धीरे राजधानी एक्सप्रेस कुदरा स्टेटशन को पार की। इस घटना की जानकारी किसी से शेयर करने में रेलवे के अधिकारी बचते नजर आए। आरपीएफ इंस्पेक्टर पीके रावत स्थल पर पहुंचे लेकिन प्रेस को कुछ भी बताने से मना कर दिया। काफी अनुरोध करने पर भी उन्होंने कहा कि इस संबंध में वे कुछ नहीं बता सकते हैं।

पीडीडीयू रेल मंडल के आरपीएफ कमांडेंट आशीष मिश्रा ने बताया कि जिस जगह पर सरिया फेंका गया था उस जगह पर आरओबी का कार्य चल रहा है। पूरी उम्मीद है कि चोर सरिया चुराने के दौरान उसे रेल ट्रैक पर फेंक कर भागे होंगे। इस मामले की जांच की जा रही है।

होम सिग्नल से सरिया बाहर होने पर ट्रैक नहीं होता लाल

रेलवे के इंजीनियरिंग विंग के अधिकारियों के अनुसार स्टेटशन व होम सिग्नल के बीच कोई भी चालक पदार्थ यदि रेल ट्रैक पर रख दिया जाएगा तो पूरा ट्रैक लाल हो जाएगा। रेलवे के पाथ वे इंस्पेक्टर (पीडब्लूआई) राजकुमार सिंह ने बताया कि रेलवे ने ऐसी तकनीक विकसित की है कि स्टेशन व होम सिग्नल के बीच ट्रैक पर कोई भी चालक पदार्थ रहने पर पटरी लाल हो जाएगी। उनका कहना था कि यदि चोर होम सिग्नल से पश्चिम सरिया फेक कर भागे होते तो बहुत नदी हादसा हो सकता था।

पीडब्लूआई के अनुसार गैंगमैन जब ट्रैक पर कार्य करते हैं तो इसी तकनीक के आधार पर वे सुरक्षित रहते हैं ।स्टेशन एरिया में इस तरह की तकनीक विकसित की गई है इसी तकनीक के चलते कुदरा रेलवे स्टेशन से पश्चिम जहां सरिया फेंका गया था ,वह जगह होम सिग्नल के पहले थी ।इसलिए रेल ट्रैक रेड हो गया और राजधानी एक्सप्रेस होम सिग्नल पर रुक गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published.