बिहार में ‘अग्निपथ’ पर सियासत तेज, JDU ने की पुनर्विचार की अपील; विपक्ष की फैसला तुरंत वापस लेने की मांग

खबरें बिहार की जानकारी

अग्निपथ पर सेना के अभ्यर्थियों के आक्रोश पर बिहार में सियासी सरगर्मी तेज हो गई है। एनडीए के प्रमुख घटक दल जदयू ने इस पर पुनर्विचार का सुझाव दिया है। वहीं, हम के साथ ही विपक्षी दलों ने इसे अविलम्ब वापस लेने की मांग की है। भाकपा-माले ने इसे युवाओं के साथ मज़ाक बताया है। वीआईपी ने योजना के विरोध में उतरे प्रदर्शनकारियों से केंद्र सरकार को बात करने का सुझाव दिया है। जाप ने कहा है कि सरकार का यह कदम सेना का मनोबल तोड़ने वाला है। दूसरी ओर, भाजपा ने कहा है कि योजना पर सवाल उठाने वालों को इसका विस्तार से अध्ययन करना चाहिए।

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह ने अग्निपथ योजना के निर्णय पर शीघ्र पुनर्विचार करने का आग्रह केंद्र सरकार से किया है। उन्होंने गुरुवार को ट्वीट किया कि अग्निपथ योजना को लेकर बिहार सहित देशभर के नौजवानों, युवाओं एवं छात्रों के मन में असंतोष, निराशा और अंधकारमय भविष्य (बेरोजगारी) का डर स्पष्ट दिखने लगा है। केंद्र सरकार को इस योजना पर अविलंब पुनर्विचार करना चाहिए। क्योंकि, यह निर्णय देश की रक्षा और सुरक्षा से भी जुड़ा है। जदयू संसदीय बोर्ड के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने भी कहा कि केंद्र सरकार को उक्त योजना को तत्काल स्थगित करते हुए इस पर पुनर्विचार करना चाहिए। यह भी कहा कि किसी भी मांग और विरोध को लेकर किसी को हिंसा पर नहीं उतरना चाहिए। पर, युवा इस योजना को लेकर आक्रोशित हैं और सड़क पर उतरे हुए हैं। इसे गंभीरता से लेने की जरूरत है। ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र प्रसाद यादव ने भी कहा है कि अग्निपथ योजना को लेकर संबंधित पक्ष से केंद्र सरकार को बात करनी चाहिए।

अविलंब वापस हो : मांझी
पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा है कि अग्निपथ योजना राष्ट्र और युवा हित में नहीं है। यह खतरनाक कदम है। इसे अविलंब वापस लेना होगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उन्होंने आग्रह किया कि शीघ्र अग्निपथ योजना को खत्मकर पुरानी सेना भर्ती योजना को शुरू करने की घोषणा करें।

योजना आत्मघाती : पप्पू
अग्निपथ योजना को जाप अध्यक्ष पप्पू यादव ने आत्मघाती कदम करार दिया है। कहा कि वन रैंक, वन पेंशन का नारा देकर आने वाली मोदी सरकार अब नो रैंक, नो पेंशन लागू करने का काम कर रही है। अग्निपथ के खिलाफ पप्पू यादव के नेतृत्व में जन अधिकार छात्र परिषद ने कारगिल चौक पर प्रदर्शन भी किया।

प्रदर्शनकारियों से बात करे सरकार : सहनी
वीआईपी के प्रमुख मुकेश सहनी ने कहा है कि अग्निपथ योजना के विरोध में सड़क पर उतरे प्रदर्शनकारियों से केंद्र सरकार को बात करनी चाहिए। उन्होंने कहा है कि इस योजना का व्यापक स्तर पर हो रहा विरोध बताता है कि इसमें कोई कमी अवश्य है। सरकार को इन युवाओं को विश्वास दिलाना चाहिए कि उक्त योजना के तहत चयनित युवा चार साल बाद अवकाश प्राप्त करेंगे तो फिर उन्हें रोजगार मिलेगा।

बहाली की उम्र में रिटायरमेंट यही है मोदी सरकार : दीपंकर
भाकपा-माले महासचिव कॉमरेड दीपंकर भट्टाचार्य ने कहा है कि सेना में मोदी शासन की अग्निपथ योजना युवाओं के साथ क्रूर मजाक तो है ही, यह देश की राष्ट्रीय सुरक्षा के भी पूरी तरह खिलाफ और सेना की पूरी सरंचना को तहस-नहस करने वाली योजना है। कहा कि सशस्त्रत्त् बलों में अनुबंध प्रणाली की शुरुआत करने वाली इस योजना के तहत जिस उम्र में युवा लम्बी नौकरी की उम्मीद करते हैं, उसमें वे रिटायर कर दिए जाएंगे। भाकपा ने आर्मी बहाली की तैयारी कर रहे युवाओं द्वारा ‘अग्निपथ’ योजना के खिलाफ आंदोलन का समर्थन किया है। राज्य सचिव राम नरेश पाण्डेय ने केन्द्र सरकार से इसे अविलम्ब वापस करने की मांग की है।

विरोधी फैला रहे हैं भ्रम: मनोज शर्मा
भाजपा प्रदेश प्रवक्ता और पूर्व विधायक मनोज शर्मा ने कहा कि अग्निपथ योजना को लेकर जो लोग सवाल उठा रहे हैं या फिर इसको लेकर राजनीति कर रहे हैं, उन्हें इस योजना का विस्तार से अध्ययन करना चाहिए। यह योजना कोई नौकरी की वैकेंसी नहीं है। यह एक सामान्य रूप से चलने वाला कोर्स है, जो सैनिक प्रक्षेत्र में कराया जाएगा। इसको लेकर किसी भी प्रकार का कोई भ्रम न तो दूसरे दल के नेता रखें और न ही जो सैन्य बल की नौकरी के लिए तैयारी कर रहे जवान रखें। यह कोर्स चार साल तक कराया जाएगा और इसके एवज में उन्हें स्टाइपेंड भी दिया जाएगा।

बीजेपी ने किया बचाव, सुशील मोदी बोले-राज्‍य की सेवाओं में प्राथमिकता दे सरकार
राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह तथा कई राज्य सरकारों ने अग्निवीरों को केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल और अन्य सेवाओं में प्राथमिकता देने की घोषणा की है। ऐसी पहल बिहार सरकार को भी करनी चाहिए।

मोदी ने युवाओं से अपील की कि वे किसी के बहकावे में आकर सेना की अग्निपथ भर्ती योजना के विरुद्ध आगजनी और राष्ट्रीय सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने जैसी कार्रवाई में शामिल न हों। श्री मोदी ने छपरा के भाजपा विधायक डॉ सीएन गुप्ता के घर पर हमला, वारसलीगंज की विधायक अरुणा देवी की गाड़ी को निशाना बनाने, नवादा के भाजपा कार्यालय में आगजनी और मधुबनी कार्यालय में तोड़फोड़ की घटनाओं की कड़ी निंदा की। उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के इच्छुक युवाओं की आड़ में सक्रिय असामाजिक तत्वों पर प्रशासन को सख्त कार्रवाई करनी चाहिए।

तोड़फोड़ व आगजनी की घटना दुखद : तारकिशोर
उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद ने देश एवं राज्य के विभिन्न स्थानों पर हुई तोड़फोड़ और आगजनी की घटना को दु:खद बताया है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में हिंसा का कोई स्थान नहीं है। उन्होंने लोगों से धैर्य और संयम के साथ शांति बनाए रखने की अपील की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.