बिहार में 60 फीट लंबे पुल को चुराने का दूसरा मामला, रोहतास के बाद जहानाबाद में सामने आया बड़ा खेल

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार के रोहतास जिले में कुछ दिन पहले एक पूरा पुल ही चुरा लिए जाने की घटना सामने तो आई तो हर कोई हैरान रह गया। अब ऐसा ही एक मामला जहानाबाद में सामने आया है। दरधा नदी पर ब्रिटिश शासनकाल में बने लोहे के पुल को चोर धीरे-धीरे काटकर बेच रहे हैं। इस पुल का काफी हिस्‍सा गायब हो चुका है। आसपास के ग्रामीणों को पहले लग रहा था क‍ि शायद विभाग के ही लोग पुल को यहां से हटा रहे हैं, लेक‍िन रोहतास की घटना के बाद लोगों को शक हुआ और यह सही साबित हुआ।

तीन साल पहले नया पुल बना था 

जहानाबाद से नालंदा, बिहारशरीफ को जोडऩे वाली दरधा नदी पर ब्रिटिश काल में लोहे के पुल का निर्माण किया गया था। पुराने पुल को जर्जर होने पर तीन साल पहले करोड़ों की लागत से नए पुल का निर्माण किया गया, जिससे वर्तमान में आवागमन हो रहा है। पुराने पुल को अपने हाल पर छोड़ दिया गया। इसी बीच पुल पर चोरों की नजर पड़ गई। पुल का कतरा-कतरा काटकर बेचा जाने लगा। स्‍थानीय लोगों का कहना है क‍ि अगर पुल के लोहे को नीलाम किया जाता तो सरकार को लाखों रुपये का राजस्व प्राप्त होता, लेकिन विभाग की उदासीनता के कारण चोरों की चांदी कट रही है।

60 फीट लंबा है लोहे का पुराना पुल 

लगभग 60 फीट लंबे और 12 फीट ऊंचे पुल के काफी हिस्से को काटकर चोर बेच चुके हैं। आसपास के ग्रामीणों ने कहा कि चोरों द्वारा दिनदहाड़े लोहे के पुल को काटा जा रहा है। हजारों रुपये का लोहा अबतक बेचा जा चुका है, लेकिन पथ निर्माण विभाग की नजर नहीं पड़ रही। वह दिन दूर नहीं जब इस पुल का अस्तित्व ही खत्म हो जाएगा। शातिर चोर रात के अंधेरे में नहीं बल्कि दिन के उजाले में पुल का एक-एक लोहा चोरी कर ले जा रहे हैं।

गैस कटर से काटा जा रहा पुल को 

पुल को गैस कटर से काटा जा रहा है, जिसकी आवाज दूर तक जाती है, लेकिन पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों तक इसकी आवाज नहीं पहुंच रही। इससे यह भी पता चलता है कि सरकारी संसाधनों की सुरक्षा के प्रति प्रशासन कितना गंभीर है। ग्रामीणों ने बताया कि शुरुआत में लगा कि विभाग के द्वारा ही पुल को स्क्रैप में बेचने की तैयारी है। बाद में यह समझ में आया कि वे विभाग के लोग नहीं बल्कि चोर हैं।

रोहतास में गायब हो गया था पुल 

बता दें कि रोहतास जिले के नासरीगंज के अमियावर में सोन नहर पर बने 60 फुट लंबे लोहे के पुल को चोर चुरा ले गए थे। मामला उजागर होने पर कई लोगों की गिरफ्तारी भी हुई थी, जिसमें सरकारी मुलाजिम भी थे। विभाग की मिलीभगत से पुल चोरी की घटना का पर्दाफाश हुआ था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.