बिहार में जहरीली शराब त्रासदी को लेकर भाजपा के निशाने पर नीतीश कुमार, कहा- सरकार मामले की कराएं न्यायिक जांच

खबरें बिहार की जानकारी

सारण के बाद सिवान और बेगूसराय जिले में कई लोगों के जहरीली शराब पीने से मौत की घटना को लेकर भाजपा ने शुक्रवार को दोनों सदन का बहिष्कार कर राजभवन मार्च निकाला। भाजपा विधानमंडल दल के नेता विजय सिन्हा और विधान परिषद में प्रतिपक्ष के नेता सम्राट चौधरी के नेतृत्व में आयोजित मार्च में पार्टी के विधायक और विधान पार्षद शामिल हुए। राज्य सरकार के खिलाफ राजभवन जाकर पार्टी नेताओं ने राज्यपाल फागू चौहान को ज्ञापन सौंपा। दोनों नेताओं ने हाईकोर्ट जज की अध्यक्षता में जहरीली शराब कांड की जांच के लिए कमेटी गठन करने की मांग की।

शराब कांड पर सीएम का बयान गैर जिम्‍मेदाराना: सम्राट चौधरी

सम्राट चौधरी ने कहा कि राज्य में शराबबंदी कानून की प्रशासनिक विफलता के कारण शराब की धड़ल्ले से बिक्री हो रही है, जिस पर सरकार का कोई नियंत्रण नहीं है। सरकारी तंत्र ने पैसे लेकर माफिया को खुली छूट दे रखी है, जिसका परिणाम है कि तीन जिले के अलग-अलग गांवों में सैकड़ों लोगों की मौत हो गई। सैकड़ों महिलाएं विधवा हो गई, सैकड़ों बच्चे अनाथ हो गए, कितनी माताओं की गोद सुनी हो गई और राज्य के मुखिया का इस तरीके से गैर जिम्मेदाराना बयान दे रहे हैं कि ‘जो पिएगा वो मरेगा’ इससे बड़ी शर्मनाक कोई बात नहीं हो सकती है।

उन्होंने कहा कि मैं पीड़ित परिवारों की ओर से नीतीश सरकार से मांग करता हूं कि सभी मृतकों के आश्रितों को 25-25 लाख मुआवजा और पीड़ित परिवारों को सदमा से उबरने के लिए रोजगार दी जाए। चौधरी ने कहा कि सरकार लोकतंत्र को शर्मसार कर रही है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.