बिहार की चीनी मिलों में ‘महाराष्ट्र मॉडल’ लागू करेगी नीतीश सरकार, ट्रेनिंग लेने जाएंगे प्रतिनिधि

खबरें बिहार की जानकारी

बिहार की चीनी मिलों में महाराष्ट्र मॉडल लागू होगा। इस तकनीक की ट्रेनिंग लेने बिहार के चीनी मिलों के प्रतिनिधि महाराष्ट्र जाएंगे। बुधवार को गन्ना उद्योग मंत्री प्रमोद कुमार की अध्यक्षता में विभाग की उच्चस्तरीय मीटिंग में यह फैसला किया गया। बैठक के बाद मंत्री ने बताया कि महाराष्ट्र के चीनी मिल के अधिकारियों ने अपने यहां इस्तेमाल की जा रही तकनीक की विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने गन्ने की बुआई, निबंधन, कटाई, परिवहन, ईंख मूल्य का भुगतान आदि के बादे में बताया। इस प्रक्रिया को बिहार में भी लागू करने का निर्देश दिया गया।

गन्ना उद्योग मंत्री ने बताया कि गन्ने की कम खपत में अधिक बीज तैयार करने की तकनीक का उपयोग भी बिहार के किसान करेंगे। गन्ने की उन्नत प्रभेद की खेती के लिए किसानों को प्रशिक्षण दिया जाएगा। चिप-सिंगल बड पद्धति से बीज तैयार करने के लिए राज्य के किसानों को जागरूक करते हुए अनुदान उपलब्ध कराया जाएगा। इस पद्धति से बीज तैयार करने के लिए 22 अगस्त को बेतिया में प्रशिक्षण कार्यक्रम भी आयोजित किया जाएगा। इसमें धान बीज लगाने वाले कृषकों को प्राथमिकता के आधार पर बुलाया जाएगा।

गन्ना उद्योग मंत्री के साथ बैठक में ईंखायुक्त गिरिवर दयाल, संयुक्त निदेशक ओंकार नाथ सिंह, संयुक्त ईंखायुक्त जयप्रकाश नारायण सिंह के अलावा क्षेत्रीय पदाधिकारी, चीनी मिलों के प्रतिनिधि और महाराष्ट्र के चीनी मिल के तकनीकी पदाधिकारी-प्रतिनिधि वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से उपस्थित थे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.